comscore
News

'Blue Whale suicide game' आखिर क्या कारण था इस गेम के निर्माण के पीछे...

'Blue Whale suicide game' ने अभी तक 130 से ज्यादा लोगों की जान ली है।

blue-whale-challenge-cover

एक गेम के कारण आपकी जान जा सकती है, ऐसा कभी किसी ने सोचा भी नहीं होगा। और ऐसा ख़याल तो किसी में मन में आ भी नहीं सकता है क्योंकि जिस साधन को हम अपने मनोरंजन के लिए इस्तेमाल में लाते हैं, वह हमारी जान ले ऐसा मैं तो कभी नहीं सोच सकता हूँ। हालाँकि पिछले कुछ दिनों से ऐसा सोचने पर मैं मजबूर हो गया हूँ। ‘Blue Whale suicide game’ आपने इस गेम का नाम शायद मुंबई में एक 14 साल के बच्चे की जान जाने के बाद ही सुना होगा।

इसे भी देखें: एप्पल iPhone 8 में बेहतर सीन्स के लिए दिया जा सकता है ‘SmartCam’

मुझे भी पहली बार उसी समय इस गेम का नाम पता चला था। हालाँकि इससे पहले लॉन्च से पहले ही एक अन्य गेम भी भारत में ऐसा ही कुछ कर चुकी थी जिसे हम Pokemon Go के नाम से जानते हैं हालाँकि इस गेम के कारण किसी कि जान नहीं गई है लेकिन कुछ लोग इस गेम के कारण जख्मी जरुर हुए हैं। ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि शायद इस गेम को कुछ इस तरह से निर्माण किया गया था कि आपको बिना मोबाइल में देखे इसे खेलना संभव नहीं है और अगर आप अपने मोबाइल के साथ इसे खेलते हुए सड़क पर निकले तो शायद आप सामने से आने वाली एक गाड़ी से भी टकरा सकते हैं। हालाँकि बाद में इस गेम को बंद किया गया।

मनोरंजन का कोई साधन आपकी जान ले सकता है ऐसा शायद ही कोई सोचे, हम कार रेसिंग की गेम खेलते हैं। हम और भी बहुत सी अन्य गेम्स खेलते हैं। लेकिन किसी गेम के कारण हमारी जान जाए ऐसा कोई गेम मैंने तो आजतक सोचा नहीं है कि होगा या होना चाहिए। असल में रूस में पिछले काफी समय से इस गेम को लोग खेल रहे थे। और आंकड़े कहते हैं कि बड़े पैमाने पर वहां की युवा पीढ़ी इस गेम से प्रभावित होकर अपनी जान दे रही थी। अब ऐसा क्या है इस गेम में और क्या कारण था कि इस गेम का निर्माण किया गया। इस बात से अब पर्दा उठ गया है। बता दें कि रूस के एक न्यायालय ने इस गेम के निर्माता Philipp Budeikin को तीन साल के लिए जेल में डाल दिया है। इनपर इल्जाम है कि इनके द्वारा निर्मित गेम से रूस के युवा बच्चों को अपनी जान देने वाली इस जानलेवा गेम ‘Blue Whale’ का निर्माण किया।

इसे भी देखें: होंडा की 2020 तक भारत में नंबर वन दोपहिया निर्माता बनने का लक्ष्य

इस 22 साल के युवक ने इस बात को माना है कि उसने 16 युवा लड़कियों को उनकी जान देने को बाध्य किया, और इस युवक का मानना है कि ये लोग जो अपनी जान दे रहे हैं महज ‘biological waste’ हैं, इसके अलावा उसने पुलिस से ये भी कहा कि उन्हें मरने में ख़ुशी हुई और मैंने समाज से कूड़े को साफ़ करने का काम किया। अब इस तरह का बयान या तो एक मंद बुद्धि व्यक्ति दे सकता है या कोई अपने आप से अपनी ज़िन्दगी से नाराज व्यक्ति जिसे किसी कि जान जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता है, और पिछले कुछ समय में ऐसा ही देखा गया है। इसे किसी कि जान जाने से कि फर्क नहीं पड़ता है।

क्या कारण है इस गेम के निर्माण के पीछे

यहाँ आपको ये भी बता दें कि जब इस मनोरोगी व्यक्ति से ऐसा सवाल किया गया है कि क्या आखिर तुमने वाकई इन युवा बच्चों को खुदख़ुशी करने के लिए बाध्य किया तो इसका जवाब था, “हाँ”, मैंने ऐसा किया है। आगे उसने कहा कि, “हाँ वह वाकई ऐसा कर रहा था, लेकिन चिंता न करें आप सब समझ जायेंगे, सब लोग समझ जायेंगे।” अब उसने ये सब बड़े ही रहस्यमय तरीके से कहा है। अपने एक साक्षात्कार में उसने बड़े ही शान्ति से कहा है कि, “यहाँ लोग भी हैं- और biological waste भी। जो लोग समाज के लिए किसी भी तरह का कोई योगदान नहीं दे रहे हैं। समाज को किसी भी तरह से हानि पहुंचा रहे हैं। मैंने अपने समाज से ऐसे लोगों को हटाने का काम कर रहा था।”

इसे भी देखें: SoundBot SB565 ब्लूटूथ हेडसेट भारत में लॉन्च, कीमत: 1,990 रुपए

कब हुई इस भयावह गेम की शुरुआत

‘The Blue Whale Challenge’ की शुरुआत रूस में 2013 में हुई थी, और ऐसा इस युवक ने इंटरनेट पर लोगों से कांटेक्ट करके किया था। यहाँ आपको ये भी बता दें कि इस सब की शुरुआत रूस के सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से हुई थी, यहाँ लोग इस ऐप को डाउनलोड करके इस ऐप को खेल रहे थे। इसके अलावा अपना आकर्षण इस गेम की ओर दिखा रहे थे। और समय के साथ साथ इस गेम ने रूस में अपना घर सा बना लिया था। इस व्यक्ति ने लोगों को सबसे अधिक ट्रैक कुछ Hashtags के माध्यम से किया है, जैसे #curatorfindme #iamawhale #thebluewhale #wakemeupat420 इन सब पर अपना इंटरेस्ट दिखाने वाले लोगो इसकी चपेट में सबसे पहले आये थे।

इसके बाद तो इस जानलेवा गेम ने अपना रुख US, UK France की ओर भी किया, हालाँकि मई 2017 में पहली बार इस गेम के बारे में फ्रेंच पुलिस ने एक ट्विट करके कहा कि इस तरह की गेम से बचकर रहें। और एक सब्धानी भरा ट्विट पुलिस द्वारा इस समय किया गया था।

इस गेम के कारण अभी रूस में अभी तक लगभग 130 लोगों की जान जा चुकी है, और जैसा कि मैंने ऊपर भी आपसे कहा है कि आखिरकार मुंबई में एक 14 साल के बच्चे की जान जाने के बाद इस गेम को सबके सामने रखा गया और इसके बाद भी इस मनोरोगी इंसान को सजा हुई है।

क्या है Blue Whale Challenge

कभी आप ऐसा गेम की कल्पना कर सकते हैं जो हर दिन की आपकी ज़िन्दगी के दिनों को घटाने का काम कर रहा हो, यह एक ऐसा ही गेम है और इसमें दिया जाने वाला चैलेंज भी कुछ ऐसा ही है। इस गेम में एडमिनिस्ट्रेशन या क्यूरेटर इसे खेलने वाले पार्टिसिपेंट को एक टास्क देते हैं जो उन्हें हर दिन पूरा करना होता है। और इसे 50 दिन तक खेला जाता है, यानी इस गेम के पूरा होने की अवधि 50 दिन की है। और इसका परिणाम आपकी ज़िन्दगी का अंत है। क्योंकि आखिरी स्टेज में इसे खेलने वाले व्यक्ति है कि खुदखुशी पर जाकर खत्म होता है। इसके अलावा हर खेलने वाले को अपने टास्क को पूरा करने की एक फोटो या विडियो भी शेयर करने होती थी। ऐसा इसलिए भी किया जाता था क्योंकि एडमिनिस्ट्रेशन के पास सबूत पहुँच सके कि आपने इस गेम के हर एक स्टेज पार किया है।

इस तरह पार्टिसिपेंट से की जाती थी बातें

इस गेम को खेलने के लिए कुछ चुनिन्दा युवा बच्चों को ही चुका जाता था और उन्हें क्यूरेटर पर्सनल चैट के द्वारा चुनता था और उनसे कुछ सवाल करता था कि आखिर क्या वह इस गेम को खेलने के लिए तैयार हैं, और अगर वह इसे जीतना चाहते हैं तो उन्हें अपनी जान देनी होगी आदि। इसके बाद अगर आप बीच में परेशान होकर इस गेम को नहीं खेलने के प्रताव रखते थे आपकी परिजनों, दोस्तों या करीबियों को जान से मारने की धमकी भी दी जाती थी और आपको इस गेम को खेलने और पूरा करने के लिए बाध्य किया जाता था।

इसे भी देखें: Jabra ने भारत में लॉन्च किए Elite Sport ईयरबड्स, जानें कीमत और फीचर्स

गूगल की भूमिका

क्या गूगल प्लेस्टोर पर बिना किसी जानकारी के कोई भी ऐप ऐसा ही अपलोड किया जा सकता है? आज ये सबसे बड़ा सवाल बन गया है। और ऐसा है भी, ऐसा किया जा सकता है। लेकिन क्या गूगल की यहाँ कुछ भी ज़िम्मेदारी नहीं है। आखिर ऐसे गेम्स के बारे में जानकारी मिलते ही गूगल को कोई कदम नहीं उठाना चाहिए। इसके अलावा एक और सवाल ये खड़ा होता है कि आखिर और कितने गेम्स ऐसे हैं जो गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद हैं, जिनका अभी तक पता नहीं चला है। गूगल को ऐसे सभी गेम्स की जानकारी इकठ्ठा करके उन्हें अपने इस प्लेटफार्म से अभी इसी समय डिलीट करना जरुरी है।

हालाँकि अंत में आपसे एक बात जरुर कहना चाहूँगा कि अगर इस घटना के बाद भी आप तक कोई ऐसा सन्देश आता है जो आपको इस तरह की कोई अन्य गेम खेलना का न्योता हो तो आपको इस तरह के किसी भी मैसेज पर यकीन नहीं करना चाहिए, क्योंकि आपकी एक छोटी सी गलती आपकी जान तक ले सकती है। और यहाँ एक जरुरी बात ये भी हो जाती है कि आप अपने बच्चों की इंटरनेट पर की जा रही सभी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें। क्योंकि आपकी एक चूक आपको एक बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है। हमारी सुरक्षा केवल हमारे हाथ में ही है।

इसे भी देखें: हुवावे Mate 10 और Mate 10 Lite 16 अक्टूबर को हो सकते हैं लॉन्च:​ रिपोर्ट

  • Published Date: August 4, 2017 9:29 AM IST