comscore
News

फेसबुक बना रहा है ऐसी टेक्नोलॉजी जो आंखों से पढ़ लेगी दिल के भाव

फेसबुक ने एक नई टेक्नोलॉजी के लिए पेटेंट किया है। यह इतनी एडवांस टेक्नोलॉजी

F (2)

फेसबुक ने एक नई टेक्नोलॉजी के लिए पेटेंट किया है। यह इतनी एडवांस टेक्नोलॉजी है कि इससे यूजर्स के आंखों के मूवमेंट और इमोशन का पता लग सकेगा। इस टेक्नोलॉजी का नाम आई-ट्रैकिंग है। हालांकि, फेसबुक का कहना है कि उसने अभी तक इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल नहीं किया है। सोशल मीडिया साइट फेसबुक ने इस बात से इंकार नहीं किया कि वो इस टेक्नोलॉजी पर काम कर रहा है। फेसबुक ने साफ किया है कि वो अब तक की सबसे एडवांस इस आई-ट्रैकिंग टेक्नोलॉजी पर काम कर रहा था।

कैसे हुआ खुलासा
फेसबुक ने अमेरिकी कांग्रेस को भेजे अपने 229 पेज के जवाब में इस बात का खुलासा किया। फेसबुक ने यह जवाब कैंब्रिज एनालिटिका डाटा चोरी विवाद के मामले में अमेरिकी कांग्रेस को भेजा था। इसी जवाब के दस्तावेजों में सोशल मीडिया साइट फेसबुक ने इस बात का खुलासा किया वो आई-ट्रैकिंग टेक्नोलॉजी को डेवलप करने का काम कर रहा था। हालांकि, फेसबुक ने यह भी साफ किया है कि इस टेक्नोलॉजी का अभी तक इस्तेमाल नहीं किया गया, इसे सिर्फ बनाया जा रहा था।

कैमरे के जरिए लोगों की पहचान करती है ये टेक्नोलॉजी
फेसबुक  ने अमेरिकी कांग्रेस को सौंपे इन दस्तावेजों में कहा है कि उसने इस टेक्नोलॉजी के लिए पेटेंट का आवेदन किया था। हालांकि, कंपनी ने यह भी साफ किया है कि इस तरह की किसी टेक्नोलॉजी को अभी डेवलप नहीं किया गया है। फेसबुक ने कहा कि दूसरी कंपनियों की तरह हम भी बौद्धिक संपदा (इंटेलेक्चुअल प्रोपर्टी) की सुरक्षा के लिए कई तरह के पेटेंट का आवेदन करते हैं। ऐसे में इस टेक्नोलॉजी के लिए भी आवेदन किया गया था, लेकिन कैमरे के जरिए लोगों की पहचान कर सकने वाली इस टेक्नोलॉजी को अभी डेवलप नहीं किया गया है।

फेसबुक ने कहा लोगों की प्राइवेसी को ध्यान में रखकर करेंगे इस टेक्नोलॉजी का यूज
फेसबुक के अमेरिकी कांग्रेस के सौंपे गए इन दस्तावेजों के जरिए पहली बार इस बात का खुलासा हुआ है कि फेसबुक ने इस टेक्नोलॉजी के पेटेंट के लिए आवेदन किया था। यह सबसे एडवांस टेक्नोलॉजी है जो कैमरे के जरिए इंसानी भावों और उसकी संवेदनाओं का पता लगा लेगी। फेसबुक ने अपने डॉक्यूमेंट्स में साफ किया है कि अगर वो इस टेक्नोलॉजी को भविष्य में यूज भी करता तो इसमें वो यूजर्स की प्राइवेसी को ध्यान रखता। यानी फेसबुक ने इस बात का स्पष्टीकरण दिया है कि इस टेक्नोलॉजी के जरिए यूजर्स की प्राइवेसी में किसी भी तरह की दखलबाजी नहीं होती।

  • Published Date: June 14, 2018 6:38 PM IST
  • Updated Date: June 14, 2018 6:39 PM IST