comscore
News

Apple, Google ने 280 हाईवे से बचने के लिए कम्यूटर-बस रन में 45 मिनट का समय ऐड किया

अभी पिछले सप्ताह ही एप्पल की 5 बसों और गूगल की एक बस के साथ भी दुर्घटनाओं की बात सामने आई है।

  • Published: January 22, 2018 11:00 AM IST
google-apple-bus

यह कोई भी नहीं जानता है, या किसी को बभी इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है कि सैन फ्रांसिस्को और सिलिकॉन वैली के बीच आखिर कम्यूटर बसों की खिड़कियाँ आखिर क्यों तबाह हो रही हैं। इसका कारण पेलेट गन हो सकता है, या इसका कारण कोई पत्थर हो सकता है। हालाँकि इसका कारण जो भी हो- एप्पल और गूगल ने अपने कर्मचारियों को इस बात की जानकारी दे दी है कि उनके समय में 45 मिनट और ऐड किये जा रहे हैं, क्योंकि वह किसी दूसरे रूट से ऑफिस आ सकते हैं।

अभी पिछले सप्ताह ही एप्पल की बसों की खिडकियों को नुकसान पहुंचा था, ऐसा घटना लगभग 5 बसों के साथ घटी हैं, इसके अलावा आपको बता दें कि गूगल की भी एक बस के साथ ऐसी ही घटना घटी है। हालाँकि इतना होने के बाद भी किसी दुर्घटना की खबर नहीं है।


हालाँकि इस तरह की समस्या के पीछे तकनीक उद्योग एक बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है, जिसने उन इलाके में भीड़ वाले राजमार्गों और भूमिगत सार्वजनिक परिवहन के लिए एक निजी समाधान के रूप में पदोन्नत किया है, जिनके उद्योग में कर-परिहार, धन असमानता और स्वार्थ का पर्याय बन गया है। उन्हें बड़े पैमाने पर सार्वजनिक व्यय के बड़े कार्यक्रम के प्रतीक के रूप में देखा जाता है जो हर किसी को लाभ देता है और इसे निजी सेवाओं से बदलता है जिससे उन्हें केवल लाभ होता है।

वे वर्षों से कई विवादों का ठिकाना रहे हैं, जिसमें बसों के इस्तेमाल से बसों पर लंबी-सी समस्याएं शामिल हैं, शहर-बस के बुनियादी ढांचे का उपयोग, प्रतिबंधों को अवरूद्ध और सार्वजनिक परिवहन को धीमा करना आदि भी इसमें शामिल हैं। आपको बता दें कि 2014 में, गूगल ने अपने बस सवारों की सुरक्षा के लिए अपने कुछ निजी गार्ड्स को भी रखा था। यह सभी सैन फ्रांसिस्को में ही जाते और आते थे।

  • Published Date: January 22, 2018 11:00 AM IST