comscore
News

आंध्र प्रदेश में पहला मैन्युफैक्चरिंग यूनिट स्थापित करने के लिए डीटेल ने राज्य सरकार के साथ करार किया

स्वदेश में विकसित एक अग्रणी इलेक्ट्रॉनिक ब्रांड डीटेल मोबाइल्स एंड एक्सेसरीज ने आज घोषणा की कि देश में अपना पहला विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने के लिए इसने आंध्र प्रदेश सरकार के साथ भागीदारी की है।

  • Published: February 27, 2018 4:40 PM IST
Detel D1 Plus Front

स्वदेश में विकसित एक अग्रणी इलेक्ट्रॉनिक ब्रांड डीटेल मोबाइल्स एंड एक्सेसरीज ने आज घोषणा की कि देश में अपना पहला विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने के लिए इसने आंध्र प्रदेश सरकार के साथ भागीदारी की है। इसका उद्देश्य देश के 40 करोड़ ऐसे लोगों को डीटेल की ओर से सबसे किफायती फीचर फोन उपलब्ध कराना है जो अभी तक इस संचार सुविधा से कटे हुए हैं। दोनों पक्षों ने विशाखपत्तनम में आज आयोजित सनराइज आंध्र प्रदेश निवेश सम्मेलन के दौरान सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं।

इस प्रावधान के तहत कंपनी ने भारत सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ मुहिम को गति देने के लिए यहां अपने फीचर फोन और अन्य उत्पादों को तैयार करने की योजना बनाई है। डीटेल इस बात पर जोर देती है कि अपना एक फोन होना अब विकल्प नहीं बल्कि आवश्यकता हो गई है। कंपनी ने देश के हर हिस्से में प्रत्येक ऐसे व्यक्ति तक पहुंच बनाने के लिए राज्य सरकार और बरिस्ता जैसे रिटेल पार्टनर तथा बीएसएनएल जैसे टेलीकॉम ऑपरेटर के साथ रणनीतिक गठजोड़ किया है जो टीयर 3, 4 और 5 दर्जे वाले शहरों में रहते हैं। कंपनी उन्हें अपने फीचर फोन से लैस करना चाहती है।

विश्व का सबसे किफायती फीचर फोन पेश करने के लिए व्यापक रूप से मशहूर हो चुकी डीटेल ने हाल ही में देश में टेलीविजन देखने का अनुभव बदल डालने का संकल्प लिया है। स्मार्ट टीवी की बढ़ती कीमतों के कारण देश में अभी भी मौजूदा बाजार क्षमता के मुताबिक इसका बाजार विकसित नहीं हो पाया है क्योंकि बाजार में सस्ते स्मार्ट टीवी का नितांत अभाव बना हुआ है।

नए समझौते के बारे में एस. जी. कॉर्पोरेट मोबिलिटी के प्रबंध निदेशक योगेश भाटिया कहते हैं, “विश्व का सबसे सस्ता फीचर फोन उपलब्ध कराने के साथ ही हमने समाज के सबसे निचले तबके के लोगों तक संचार सुविधा पहुंचाने की बाधा को तोड़ा है। हम ‘कनेक्टिंग अनकनेक्टेड” (संचार से वंचित लोगों के साथ संपर्क जोड़ने) का नजरिया रखते हुए लगातार काम कर रहे हैं और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू का भी यही दृष्टिकोण रहा है।”

  • Published Date: February 27, 2018 4:40 PM IST