comscore
News

चंद्रयान-2 मिशन की तैयारी में जुटा इसरो, सामने आ सकते हैं चंद्रमा से जुड़े नए रहस्य

चंद्रयान-2 को वीइकल मार्क 2 रॉकेट के साथ लॉन्च किया

  • Published: February 5, 2018 9:43 AM IST
moon-image

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपने सबसे चुनौतीपूर्ण अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान -2 (चंद्र -2) मिशन को सफल बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। ऐसा पहली बार होगा जब भारत का चंद्रयान 2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंड करेगा। पहले चंद्र मिशन में पीएसएलवी रॉकेट ने चंद्रमा की कक्षा में अंतरिक्ष यान को लैंड कराया था।

इस बार भारी पेलोड उठाने वाला GSLV Mk II 3,290 किलोग्राम वजन वाले अंतरिक्ष यान को लॉन्च करेगा। मॉड्यूल एक ऑर्बिटर, रोवर और लैंडर को चांद तक लेकर जाएगा।

TOI से बात करते हुए इसरो चैयरमेन Dr K Sivan ने एक्सक्लूसिव जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चंद्रयान-2 एक चैलेंजिंग मिशन है जो कि पहली बार orbiter को लेकर जाएगा और चंद्रमा पर लैंड करेगा। अप्रैल के आस-पास इसकी लॉन्च डेट शेड्यूल की गई है।

चंद्रयान-2 को तमिलनाडु में इसरो के केंद्र लिक्विड प्रोपल्सन सिस्टम सेंटर (एलपीएससी) से लॉन्च किया जाएगा। अगर बात करें इस सेंटर की तो यह महेंद्र गिरी इलाके में बना हुआ है। सामने आई जानकारी के अनुसार चंद्रयान 2 को 2018 के तीन से छह महीने से बीच मिशन पर भेजा जा सकता है।

  • Published Date: February 5, 2018 9:43 AM IST