comscore
News

भारत सरकार ने तेज गति वाले इंटरनेट के संचारण के लिए LiFi टेक का परिक्षण किया

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने सफलतापूर्वक LiFi नामक एक तकनीक का परीक्षण किया, जो कि एलईडी बल्ब और हल्के स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल 1 किमी प्रति घंटा के दायरे में प्रति सेकंड 10GB के रूप में उच्च गति पर संचार करने के लिए करता है।

  • Updated: January 29, 2018 11:42 AM IST
led-light-bulb-stock-image

सोचकर देखिये कि आपके घर में बिना किसी ब्रॉडबैंड या WiFi के महज आपके घर की दीवार पर लगे LED बल्ब के द्वारा आपको हाई स्पीड इंटरनेट मिल जाए तो कैसा हो? या एक एलईडी-लिट फिल्म बिलबोर्ड आपके स्मार्टफ़ोन के लिए उच्च-गुणवत्ता वाले प्रचार वीडियो और गीतों को रिले कर सकते हैं, आपको मिल जाए तो कैसा हो? हालाँकि यह महज एक सपना लग रहा है लेकिन इसे जल्द ही हकीक़त में बदलने के भी आसार नजर आ रहे हैं।

जिससे कि मैंने आपसे ऊपर कहा कि यह एक सपना लग रहा है लेकिन यह सच होने के कुछ ही कदम दूर है। आपको बता दें कि भारत सरकार ने इस तकनीकी का पहले ही परिक्षण कर लिया है, जो इस बात को तो आपके लिए सच बनाने को लेकर यर्क बड़ा साक्ष्य देती है, साथ ही अन्य कई फीचर्स को भी आपके लिए इनेबल कर सकती है।

एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में, इलेक्ट्रॉनिक और IT मंत्रालय ने ऐसी ही एक तकनीकी जिसे LiFi (लाइट फिडेलिटी) नाम दिया जा रहा है का परिक्षण कर लिया है। यह तकनीकी एलईडी बल्ब और हल्के स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल 1 किमी प्रति घंटा के दायरे में प्रति सेकंड 10GB के रूप में उच्च गति पर संचार करने के लिए करती है।

यह विचार देश के कठिन इलाकों को जोड़ने के लिए सामने आया है, जो फाइबर तक नहीं पहुंच सकते हैंब, हालाँकि यहाँ इन इलाकों में बिजली मौजूद हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि इस तकनीकी का इस्तेमाल अस्पतालों से जुड़ने के लिए किया जा सकता है, जहां नियमित इंटरनेट संकेत कुछ उपकरणों के साथ-साथ पानी के भीतर कनेक्टिविटी प्रदान करने में भी हस्तक्षेप करते हैं।

शिक्षा और अनुसंधान नेटवर्क की महानिदेशक, Neena Pahuja ने कहा है कि, “LiFi का सबसे बड़ा उपयोग देश के आगामी स्मार्ट शहरों में हो सकता है, जिसका मूल विषय आधुनिक शहर प्रबंधन के लिए इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स होगा और एलईडी बल्ब से जुड़ा होगा।”

स्मार्ट शहरों का उद्देश्य आईओटी पर व्यापक रूप से कचरे के निपटान से यातायात प्रबंधन तक की गतिविधियों के लिए भरोसा करना है।

  • Published Date: January 29, 2018 11:40 AM IST
  • Updated Date: January 29, 2018 11:42 AM IST