comscore
News

माइक्रोसॉफ्ट ने बताया वह क्यों बना रहा है फोल्डिंग फोन

माइक्रोसॉफ्ट ने पेटेंट एप्लिकेशन में फोल्डिंग फोन के बारे में कुछ जानकारी शेयर की है।

  • Published: December 26, 2017 3:00 PM IST
microsoft-logo-stock-bgr

पिछले काफी समय से स्मार्टफोन बाजार में फोल्डिंग फोन को लेकर चर्चाएं जारी है। कुछ दिनों पहले ही फोल्डिंग फोन के बारे में जानकारी सामने आई थी जिनके मुताबिक माइक्रोसॉफ्ट के सर्फेस डिवीजन द्वारा अगले साल फोल्डिंग डिवाइस रिलीज हो सकता है। टेलीफोनिक क्षमताओं के साथ और फोन के आकार में जो उत्पाद में परिवर्तित होता है, इसके बारे में जानकारी दी गई है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि माइक्रोसॉफ्ट इसे क्या नाम देगा। वहीं अब World Intellectual Property Organization (WIPO) के साथ दायर किए गए हालिया पेटेंट आवेदन में दिया गया है कि माइक्रोसॉफ्ट क्यों फोल्डेबल फोन बना रहा है।

thewincentral पर World Intellectual Property Organization के माध्यम से दी गई जानकारी के अनुसार पेटेंट आवेदन में माइक्रोसॉफ्ट के एन्ड्रोमेडा डिवाइस पर स्पष्ट रूप से उपयोग किया जाने वाला free-stop 360 degree hinge दिखाया है, जिसमें पेटेंट के साथ बहुत सारे डिजाइन शामिल हैं। माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि इन हैंडसेट को पॉकेट योग्य बनाने के लिए फोल्डेबल बनाना आवश्यक है। स्क्रीन के आकार में बढ़ोत्तरी करनी होगी क्योंकि किसी फोन की पूरी बॉडी उसका डिसप्ले होता है। फोन प्रदर्शित करने के आकार में वृद्धि जारी रखने के लिए, यूनिट का वास्तविक आकार खुद को बड़ा करना होगा और डिवाइस को पॉकेट योग्य रखने के लिए फोल्डिंग डिसप्ले के उपयोग की आवश्यकता होगी।

हालांकि इस तरह के उपकरण व्यवसाय यूजर्स के लिए टेलर बनाते हैं, लेकिन इन उत्पादों के बारे में जनता क्या प्रतिक्रिया देती है? इस प्रश्न का उत्तर मूल्य निर्धारण और स्पेसिफिकेशन पर निर्भर करेगा। हमने इस साल सीखा है कि यदि जनता प्रेरित है तो एक स्मार्टफोन के लिए 1,000 डॉलर या उससे अधिक का भुगतान करेगी। अब माइक्रोसॉफ्ट के लिए जनता को अपने फोल्डिंग फोन के बारे में प्रेरित करना महत्वपूर्ण है।

माइक्रोसॉफ्ट द्वारा दायर किए गए पेटेंट एप्लिकेशन में कहा गया है कि ‘इन विस्तारित क्षमताओं के साथ-साथ एक बड़ा उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करने के लिए बड़े डिसप्ले की मांग आ गई है। मोबाइल फोन के डिसप्ले का आकार उस बिंदु तक बढ़ गया है, जहां वे अब फोन की संपूर्ण डिसप्ले का उपभोग कर सकते हैं। डिसप्ले के आकार को बढ़ाने के लिए फोनों के आकार में अन्य वृद्धि की आवश्यकता होगी। यह वांछनीय नहीं है, क्योंकि उपयोगकर्ता चाहते हैं कि उनके मोबाइल फोन को उनके हाथ में या शर्ट या पैंट की जेब में आसानी से फिट रखा जा सके।’

‘नतीजतन, डुअल डिसप्ले वाले डिवाइस अधिक लोकप्रिय होते जा रहे हैं। डुअल डिसप्ले डिवाइस के साथ, मोबाइल फोन या टैबलेट में एक ओपन, विस्तारित स्थिति शामिल हो सकती है, जहां दोनों डिसप्ले flush होते हैं ताकि उपयोगकर्ता को लगता है कि एक एकीकृत डिसप्ले है। एक बंद, संघनित स्थिति में, दोनों डिसप्ले फेस-टू-फेस होते हैं ताकि डिसप्ले को सुरक्षित किया जा सके। पूरी तरह से ओपन स्थिति में, डुअल डिसप्ले बैक-टू-बैक बैठ सकता है ताकि उपयोगकर्ता को डिसप्ले देखने के लिए डिवाइस को फ्लिप करना चाहिए।’

बता दें कि पिछले दिनों रिपोर्ट आई थी कि Microsoft Andromeda फोल्डेबल डिवाइस होलोग्राफिक डिसप्ले और सेलुलर कनेक्टिविटी से लैस हो सकता है। रिपोर्ट में कहा गया था कि माइक्रोसॉफ्ट एक डुअल पैनल हार्डवेयर डिवाइस पर काम कर रहा है जिसमें एक फोल्डेबल डिसप्ले होने वाली है और कंपनी ने एक पेटेंट भी रिसीव किया है। इसके अलावा माइक्रोसॉफ्ट ऐप्स को कुछ इस तरह से ही ऑप्टिमाइज़ कर रहा है ताकि वह डुअल स्क्रीन पर सही तरह से काम कर सकें। इसके अलावा एक खबर तो यह भी सामने आ रही है कि कंपनी डुअल पैनल UWP ऐप्स पर काम कर रह रही है।

  • Published Date: December 26, 2017 3:00 PM IST