comscore
News

नेस्टअवे 5 हजार घरों को अपने नेटवर्क में शामिल करेगी

ऑनलाइन होम रेन्टल कंपनी नेस्टअवे इस वित्त वर्ष 5 हजार घरों को अपने नेटवर्क में शामिल करेगी। कंपनी छात्रों, ग्रेजुएट्स, नौकरीपेशा लोगों को किराये के घर ढूंढने में मदद करती है।

  • Published: October 17, 2017 9:00 PM IST
website-HTTP-stock-image

ऑनलाइन होम रेन्टल कंपनी नेस्टअवे इस वित्त वर्ष 5 हजार घरों को अपने नेटवर्क में शामिल करेगी। कंपनी छात्रों, ग्रेजुएट्स, नौकरीपेशा लोगों को किराये के घर ढूंढने में मदद करती है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि नेस्टअवे के घर दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा और गाजियाबाद में मौजूद हैं। इन शहरों में 2200 से अधिक घर और 7000 से अधिक किरायेदार रहते हैं, जिनमें करीबन 1500 घरों के मालिक विभिन्न स्थानों पर रहने वाले एनआरआई हैं।

नेस्टअवे के एनसीआर क्षेत्र के असिस्टेंड वाइस प्रेसिडेंट (व्यापार अधिग्रहण) कुलप्रीत सिंह ने कहा कि किरायेदारों को फर्निश्ड घर उपलब्ध कराने के अलावा नेस्टअवे ‘स्मार्ट होम्स’ की शुरुआत करने की योजना बना रही है, जिसके तहत सभी घरों में स्मार्ट लॉक सर्विस होगी। स्मार्ट लॉक एक सेफ्टी लॉकिंग सिस्टम है, जिससे नेस्टअवे के घरों में रहने वाले लोगों और खासकर महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सकेगी। यह सेवा एंड्रॉयड और आईओएस डिवाइस पर नेस्टअवे ऐप में उपलब्ध होगी। इसे भी देखें: दिवाली के मौके पर आप खरीद सकते हैं 25,000 रुपए की कीमत में यह कैमरा सेंट्रिक स्मार्टफोन

उन्होंने कहा कि नेस्टअवे द्वारा शून्य ब्रोकरेज के अलावा सिर्फ दो महीने का सिक्योरिटी डिपॉजि़ट लिया जाता है, इसलिए यह किरायेदारों के लिए बड़े निवेश की समस्या को भी हल करता है। दिल्ली में बड़ी संख्या में होती आपराधिक गतिविधियों के कारण अभिभावकों को अपने बच्चों के लिए नेस्टअवे के घर सुरक्षित लगते हैं। इसे भी देखें: शाओमी Redmi 5A और Redmi 4A में यह कुछ बड़े अंतर; क्या आप जानते हैं इनके बारे में?

सिंह ने कहा कि नेस्टअवे में किरायेदारों की सुरक्षा को सर्वाधिक प्राथमिकता दी जाती है। इसके नेटवर्क के घरों में 7000 प्लस अविवाहित नौकरीपेशा महिलाएं रह रही हैं। नेस्टअवे द्वारा किसी भी प्रकार के भेदभाद के खिलाफ सख्त नीति अपनाई जाती है और किसी भी घर के लिए जाति, धर्म, रंग, भाषा या खानपान की आदतों के आधार पर किरायेदारों से भेदभाव नहीं किया जाता। इसे भी देखें: Huawei Mate 10 बनाम Huawei Mate 10 Pro: जानिये इन दोनों स्मार्टफोन के बीच के अंतर

नेस्टअवे ने अब तक डॉलर 4.32 करोड़ डॉलर का निवेश जुटाया है। इस कंपनी की शुरूआत अमरेंद्र साहू, दीपक धार, जितेंद्र जगदेव और स्मृति परिदा ने 2015 में की थी। नेस्टअवे की उपस्थिति बैंगलुरू, नई दिल्ली, नोएडा, गुड़गांव, पुणे, हैदराबाद, गाजि़याबाद और मुंबई जैसे आठ शहरों में है। देश के 8 शहरों में नेस्टअवे के पास 10,000 से अधिक घर हैं जिनमें 25,000 से अधिक किरायेदार रहते हैं। इसे भी देखें: Huawei Mate 10 बनाम Huawei Mate 10 Pro: जानिये इन दोनों स्मार्टफोन के बीच के अंतर

  • Published Date: October 17, 2017 9:00 PM IST