comscore
News

अटेंडेंस के लिए अब टीचर्स को व्हाट्सएप ग्रुप पर भेजनी होगी स्टूडेंट्स के साथ सेल्फी

यह स्कूल में शिक्षकों के वर्कफ्लो का हिस्सा बना गया है।

  • Published: April 23, 2018 12:31 PM IST
WhatsApp Pixabay feat

हम सच में ऐसी दुनिया में रह रहें हैं जहां सेल्फी और व्हाट्सएप हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन गए हैं। इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में शिक्षकों की मौजूदगी अब सेल्फी से सुनिश्चित की जा रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्रों में टीचर्स को हाजरी लगाने के लिए बायोमेट्रिक के साथ ही मोबाइल से सेल्फी और ग्रुप फोटो व्हाट्सएप पर भेजना होगा, जिससे यह साबित हो सके कि टीचर्स स्कूल में मौजूद हैं।

स्कूलों में फोन के उपयोग एक समय पर वर्जित था लेकिन अब यह स्कूल में शिक्षकों के वर्कफ्लो का हिस्सा बना गया है। उत्तराखंड के कुमाऊं डिवीजन में शिक्षा अधिकारियों ने टीचर्स की अनुपस्थिति को रोकने के लिए एक यह तरीका अपनाया है।

इस क्षेत्र के शिक्षकों ने व्हाट्सएप ग्रुप बनाया हैं, जिसमें शिक्षक और एजुकेशन ऑथोरिटिज जुड़े हुए हैं। एक बार क्लास में शिक्षकों को उपस्थिति के सबूत के तौर पर स्टूडेंट्स के साथ एक सेल्फी क्लिक कर व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर करनी होगी। इस ग्रुप में डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन ऑथोरिटिज भी हैं।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि वर्तमान में उज्जवल सेवा उत्तराखंड नाम का एक एप इसके लिए बनाया जा रहा है। हालांकि, पिछले साल इसकी घोषणा की गई थी। कुमाऊं आयुक्त राजीव रौतेला ने शनिवार को आदेश जारी किए कि सरकारी स्कूल के शिक्षकों को व्हाट्सएप ग्रुप में अपने स्टूडेंट्स के साथ एक सेल्फी शेयर करनी होगी।

  • Published Date: April 23, 2018 12:31 PM IST