comscore
News

Reliance Jio ने फिर दिखाया अपना दमखम, अक्टूबर 2017 में बनाये 7.3 मिलियन नए सब्सक्राइबर

रिलायंस जियो के अलावा अन्य सभी टेलीकॉम ऑपरेटर बड़ी समस्या को झेल रहे हैं।

  • Published: December 14, 2017 12:00 PM IST
TRAI

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने घोषणा की कि भारत दूरसंचार सब्सक्राइबर बेस अक्टूबर 2017 में 0.41 प्रतिशत घट गया। सभी बड़े दूरसंचार ऑपरेटरों के ग्राहक बेस में 1,206.71 मिलियन से 1,201.72 मिलियन पहुँच गया है, यानी इसमें आप थोड़ी गिरावट देख सकते हैं। ट्राई द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार वायरलेस और वायर्ड ग्राहक बेस में गिरावट आई है।

वायरलेस सब्सक्राइबर 0.41% से घट कर 1178.20 मिलियन हो गए, जबकि वायर्ड कनेक्शन 0.60% से 23.53 मिलियन तक कम हो गए। भारत के ग्रामीण इलाकों की तुलना में शहरी इलाकों में कनेक्शन का अधिक नुकसान हुआ है। यानी शहरी इलाकों में यह गिरावट सामने आ रही है। शहरी भारत में कनेक्शन की संख्या सितंबर में 704.89 मिलियन से घटकर अक्टूबर 2017 के अंत में 697.54 मिलियन हो गई। दिलचस्प बात यह है कि महीने के अंत तक ग्रामीण इलाकों में ग्राहकों की संख्या बड़ी है, यहाँ पहले यह संख्या 501.82 मिलियन थी वहीँ अब यह 504.19 मिलियन हो गई है।

अगर हम सितम्बर 2017 महीने के अंत की चर्चा करें तो इस महीने में मोबाइल कनेक्शन की संख्या 1,183.04 मिलियन थी, वहीँ अक्टूबर 2017 महीने के अंत में यह संख्या 1,178.20 मिलियन ही रह गई। हालांकि, 12.6 मिलियन से अधिक ग्राहक प्राप्त करने वाले प्रमुख दूरसंचार ऑपरेटरों द्वारा नुकसान कम किया गया था।

एयरसेल, टेलिनॉर, आरकॉम, टाटा टेलीसर्विसेज जैसे ऑपरेटर एक बड़े अंतर के साथ अपने ग्राहकों को निरंतर खो रहे हैं, वहीँ रिलायंस को लगभग 10 मिलियन से ज्यादा उपभोक्ताओं का नुकसान हुआ है, इसके अलावा टाटा ने भी अपने लगभग 4 मिलियन से अधिक उपभोक्ताओं को खो दिया है। इस लिस्ट में टेलिनोर और एयरसेल भी आते हैं, आपको बता दें कि इन्होंने अपने 1 मिलियन और 0.9 मिलियन यूजर्स से हाथ धो लिया है।

वायर्ड कनेक्शन को देखते हुए सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल और MTNL को भी ग्राहक बेस में भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है। मुफ्त कॉलिंग सेवाओं की पेशकश के बावजूद, बीएसएनएल ग्राहक बेस में वायरलेस कनेक्शन लाभ के रूप में गिरावट आई है। कुल मिलाकर, लैंडलाइन ग्राहक आधार 0.14 मिलियन से घटकर 0.60% की मासिक गिरावट दर के साथ दिखाई दे रहे हैं।

सोर्स:

  • Published Date: December 14, 2017 12:00 PM IST