comscore
News

सीपीडब्ल्यूडी का डिजिटलीकरण: 20,000 करोड़ रुपये का सालाना भुगतान हुआ आॅनलाइन

सीपीडब्ल्यूडी के सभी कार्यालायों पर पोर्टल के जरिए डिजीटल भुगतान की व्यवस्था की गई है।

  • Published: August 31, 2017 10:00 PM IST
online-shopping-payment

आवास और शहरी मामले मंत्रालय के तहत आने वाले केंद्र सरकार के प्रमुख निर्माण संगठन केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्‍ल्यूडी) में भुगतान व्यवस्था को पूरी तरह से डिजिटल कर दिया गया है जिससे वह सालाना 20,000 करोड़ रुपये का भुगतान अब आनलाइन कर सकेगा। यह उपलब्धि हासिल करने वाला यह अपनी तरह का पहला क्षेत्रीय संगठन है।

सरकारी बयान के अनुसार सीपीडब्ल्यूडी का पूरा भुगतान अब आनलाइन किया जा सकेगा। देश भर में सीपीडब्‍लयूडी के सभी 400 क्षेत्रीय कार्यालयों की नेटवर्किंग कर उनके लिए इस महीने से विशेष एकीकृत पोर्टल के जरिए डिजीटल भुगतान की व्यवस्था की गई है। इसे भी देखें: शाओमी ने 3 साल में सेल किए 2.5 करोड़ से भी ज्यादा स्मार्टफोन

इसके अनुसार सीपीडब्‍लयूडी देशभर में 25,000 से अधिक परियोजनाओं पर काम करता है और उसके क्षेत्रीय कार्यालय हर साल 20,000 करोड रूपये से भी ज्‍यादा का भुगतान करते हैं। नए डिजीटल भुगतान तरीके से छह लाख से अधिक लेनदेन किए गए हैं।

आवास और शहरी मामले मंत्रालय के मुख्‍य लेखा नियंत्रक (सीसीए) कार्यालय ने सीपीडब्‍ल्यूडी के लिए विशेष लोक वित्‍त प्रबंधन (पीएफएमएस) पोर्टल तैयार किया है तथा सीपीडब्‍लयूडी के लिए इलेक्‍ट्रोनिक मापन बुक (ई-एमबी) भी तैयार की गई है जिससे ठेकेदारों के साथ हुए समझौते की अवधि के अनुसार कार्य की प्रगति के बारे में ऑनलाइन जानकारी दी जा सकेगी और इसी आधार पर भुगतान किया जाएगा। इसके अनुसार अगले महीने की पहली तारीख से ई-एमबी को अनिवार्य कर दिया जाएगा जिससे सभी क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा दस्ती रिपोर्ट देना बंद हो जाएगा। इसे भी देखें: एप्पल iPhone 8 में होगा iPad की तरह dock bar और जेस्चर सपोर्ट फीचर

बयान के अनुसार आवास व शहरी मामलात मंत्रालय ने अक्‍तूबर 2015 से पीएफएमएस तरीके को अपनाया जिसके जरिए 34,000 करोड़ रूपये का स्थानांतरण इलेक्‍ट्रोनिक तरीके से किया गया। सीपीडब्‍लयूडी के डिजीटल होने से मंत्रालय और सीपीडब्‍लयूडी का ई-भुगतान 2017-18 में लगभग 60,000 करोड़ रूपये होगा। इसे भी देखें: सैमसंग Galaxy Note 8 भारत में 25 सितंबर को भारत में सेल के लिए होगा उपलब्ध: रिपोर्ट

  • Published Date: August 31, 2017 10:00 PM IST