comscore
News

अब आधार के बिना नहीं रुकेगी आपकी पेंशन, जानें किसका है आदेश

ईपीएफओ ने इस बारे में सभी बैंकों और डाक सेवाओं के प्रमुखों को एक सर्कुलर भेजा है।

  • Updated: April 11, 2018 4:54 PM IST
aadhaar-screenshot

ईपीएफओ (कर्मचारी भविष्य निधि संगठन) ने बैंकों से कहा है कि वे आधार संख्या के लिए किसी पेंशन भोगी की मासिक पेंशन नहीं रोकें। बैंकों से कहा गया है कि वे जरूरत होने पर पेंशनभोगी की पहचान के लिए वैकल्पिक तरीकों को अपना सकते हैं। ईपीएफओ ने इस बारे में सभी बैंकों और डाक सेवाओं के प्रमुखों को एक सर्कुलर भेजा है।

इसमें उन विकल्पों को रेखांकित किया गया है जिनका इस्तेमाल उन पेंशनभोगियों के मामले में किया जा सकता है जिनके पास आधार नहीं है या जिनकी अंगुलियों की छाप काम नहीं कर रही। इसमें बैंकों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि पेंशनभोगियों को आधार नामांकन की सुविधा मिले।

इसी तरह बैंकों को जीवन प्रमाणपत्र को मैनुअल तौर पर स्वीकार करना होगा। जिन पेंशनभोगियों के अंगुली के निशान काम नहीं कर रहे उनके सत्यापन के लिए बैंकों को आइरिस स्कैनर की व्यवस्था करनी होगी।

गौरतलब है कि आधार संख्या जारी करने वाले प्राधिकरण यूआईडीएआई ने बहुप्रतीक्षित आभासी पहचान यानी वर्चुअल आईडी( वीआईडी) को प्रायोगिक स्तर पर शुरू कर दिया है। प्राधिकरण का कहना है कि विभिन्न सेवा प्रदाता जल्द ही आधार संख्या की जगह इस आईडी को स्वीकार करना शुरू कर देंगे। इस व्यवस्था में आधार संख्या के धारक को अपनी एक वर्चुअल आईडी बनानी होगी।

सत्यापन या अधिकरण के लिए जहां आधार संख्या बताने की जरूरत होगी वहां यह आईडी बताने से ही काम चल जाएगा। इससे उपयोक्ता की 12 अंक की आधार संख्या का खुलासा दूसरे व्यक्ति या सेवा प्रदाता को नहीं होगा। एक तरह से यह वर्चुअल आईडी आधार संख्या के शुरुआती विकल्प के रूप में काम करेगी।

  • Published Date: April 11, 2018 4:49 PM IST
  • Updated Date: April 11, 2018 4:54 PM IST