comscore
News

गूगल पर लगायी गयी जुर्माने की रकम निराश करने वाली: कानूनी फर्म

सका उद्देश्य उन कंपनियों के लिये भारत में एकसमान स्तर का प्रतिस्पर्धी माहौल तैयार करना है, जो गूगल की अलग-अलग सेवा से प्रतिस्पर्धा करती हैं।

  • Published: February 11, 2018 3:00 PM IST
google-logo

कानूनी परामर्श देने वाली फर्म शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी ने कहा कि भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) द्वारा गूगल पर लगाया गया 136 करोड़ रुपये का जुर्माना “निराशाजनक” है।

हालांकि, उसने कहा कि फिर भी यह फैसला अहम है। फर्म ने गूगल के खिलाफ शिकायतकर्ताओं में से एक शिकायतकर्ता फर्म मैट्रिमोनीडॉट कॉम का प्रतिनिधित्व किया। जिसकी शिकायत पर सीआईआई ने गूगल पर जुर्माना लगाया।

फर्म के नवल सतारावाला चोपड़ा ने कहा कि यह फैसला अहम है और इसका उद्देश्य उन कंपनियों के लिये भारत में एकसमान स्तर का प्रतिस्पर्धी माहौल तैयार करना है, जो गूगल की अलग-अलग सेवा से प्रतिस्पर्धा करती हैं।

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा कि जुर्माने की रकम निराश करने वाली है क्योंकि इसका गूगल पर निवारक प्रभाव (रोकने वाला प्रभाव) नहीं पड़ेगा, जिसका कारोबार 110 अरब डॉलर का है।

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने गुरुवार को अनुचित कारोबारी गतिविधियों को लेकर 136 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। बहुमत से लिये गये निर्णय के तहत सीसीआईने कहा कि यह जुर्माना गूगल पर प्रतिस्पर्धा-रोधी व्यवहार के लिये लगाया जा रहा है।

  • Published Date: February 11, 2018 3:00 PM IST