comscore
News

जीमेल की सफाई- यूजर्स के मेल को नहीं पढ़ते हैं थर्ड पार्टी डेवलपर्स

इससे पहले रिपोर्ट में कहा गया था कि थर्ड पार्टी डेवलपर्स तक यूजर्स के ई-मेल का एक्सेस है।

google-gmail-apps

वॉल स्ट्रीट जर्नल ने एक रिपोर्ट में कहा था कि जीमेल के लिए सॉफ्टवेयर बनाने वाले डेवलपर्स किसी भी यूजर्स के मेल को पढ़ सकते हैं। यानी थर्ड पार्टी डेवलपर्स यूजर्स के निजी ई-मेल की जानकारियों को पढ़ सकते हैं। लेकिन, अब जीमेल ने इस पर सफाई दी है। जीमेल का कहना है कि थर्ड पार्टी डेवलपर्स किसी भी यूजर्स के मेल को नहीं पढ़ते हैं। जीमेल ने बुधवार को यह बात कही है।

इससे पहले रिपोर्ट में कहा गया था कि थर्ड पार्टी डेवलपर्स तक यूजर्स के ई-मेल का एक्सेस है। अब जीमेल ने इस पर सफाई देते हुए वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में किए गए दावे को खारीज कर दिया है।

क्या है पूरा मामला
वॉल स्ट्रीट जर्नल  की रिपोर्ट में कहा गया था कि जीमेल यूज करने वाले उन यूजर्स को सबसे ज्यादा खतरा है जो शॉपिंग प्राइज की तुलना और ऑटोमेटिड ट्रेवल प्लानर्स के लिए जीमेल साइन इन करते हैं। ऐसे यूजर्स को सबसे ज्यादा प्राइवेसी रिस्क है। रिपोर्ट का कहना था कि ऐसे यूजर्स के प्राइवेट ई-मेल को पढ़ा जा सकता है।

बता दें कि इस वक्त डिजिटल दुनिया में यूजर्स की प्राइवेसी सबसे ज्यादा अहम है। फेसबुक से लेकर तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर यूजर्स की प्राइवेसी को ताक पर रखने के लिए लगातार सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं। फेसबुक ने तो इस साल यूजर्स की प्राइवेसी को लेकर सबसे ज्यादा खिलवाड़ किया है। कैंब्रिज एनालिटिका मामले में फेसबुक के खिलाफ अभी जांच चल  ही रही है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आरोप है कि उसने 8 करोड़ से ज्यादा यूजर्स के डाटा को लीक किया। इस डाटा का उपयोग कथित तौर पर अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने में किया गया।

  • Published Date: July 4, 2018 1:50 PM IST