comscore
News

इस कारण गूगल पर लगा 35 हजार करोड़ का जुर्माना, फैसले को चुनौती देगी कंपनी

इससे पहले सर्च इंजन गूगल पर पिछले साल 2.7 डॉलर बिलियन डॉलर का फाइन लगा था।

google-search

दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल एक बार फिर मुसिबत में घिर गया है। यूरोपियन यूनियन रेगुलेटर्स ने गूगल पर €4.3 बिलियन (लगभग 34,500 करोड़ रुपए) का जुर्माना लगाया है। इस जुर्माने को लगाने का कारण भी काफी दिलचस्प है। दरअसल, गूगल पर यह फाइन अपने एंड्रॉयड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम के गलत इस्तेमाल के लिए लगाया गया है।

यूरोपियन यूनियन रेगुलेटर्स द्वारा किसी भी ऑर्गनाइजेशन पर लगा यह अब तक का सबसे ज्यादा जुर्माना है। यूरोपियन यूनियन की एग्जिक्यूटिव बॉडी यूरोपियन कमीशन ने कंपनी को आदेश दिया है कि वह 90 दिनों के अंदर अपने बेजा इस्तेमाल को बंद करे।

फाइन के खिलाफ गूगल करेगा अपील

वहीं, गूगल ने कहा है कि वह इस फैसले को चुनौती देगा। गूगल के प्रवक्ता अल वर्नी ने कहा कि कंपनी इस जुर्माने के खिलाफ अपील करेगी। उन्होंने कहा एंड्रॉयड ने लोगों के लिए अधिक मौके पेश किए हैं।

एंड्रॉइड सबसे पॉप्यूलर ऑपरेटिंग सिस्टम

इसके अलावा गूगल के सीईओ ने ब्लॉगपोस्ट पर कहा है कि एंड्रॉइड सबसे पॉप्यूलर मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह ओएस 1,300 ब्रांड के 24,000 डिवाइस पर कार्य करता है, जिनमें यूरोपियन फोन मेकर्स शामिल हैं।

पिछले साल लगा था 2.7 अरब डॉलर का फाइन

इससे पहले पिछले साल सर्चन इंजन गूगल को 2.7 डॉलर बिलियन का फाइन लगा था। यह फाइन कंपनी पर शॉपिंग सर्विस को प्राथमिकता देने के लिए लगा था। इससे पहले यूरोपीय संघ अमेरिका की दो अन्य बड़ी कंपनियों एप्पल और फेसबुक पर भी भारी–भरकम जुर्माना लगा चुका है।

  • Published Date: July 19, 2018 9:22 AM IST