comscore
News

Google for India: एंड्राइड Go और जियोफोन के लिए असिस्टेंट सहित ये हुईं घोषणाएं

गूगल द्वारा की गई लेटेस्ट घोषणाओं से लग रहा है कि वह भारत में अपने बेस को बनाने के लिए सीरियस है।

Google

सर्च इंजन गूगल ने आज दिल्ली में Google for India नाम के इवेंट का आयोजन किया। इस इवेंट में गूगल के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के वाइस प्रेसिडेंट Caesar Sengupta और गूगल मैप्स के डायरेक्टर मार्था वेल्श मौजूद रहे। वहीं, इस इवेंट में भारत के लिए बड़ी घोषणाएं की गईं। Google for India एक वार्षिक आयोजन है, जिसका इस बार तीसरा संस्करण आयोजित किया गया है। 2015 में Google for India इवेंट को गूगल सीईओ सुंदर पिचाई ने होस्ट किया था। वहीं, इस बार के इवेंट में गूगल ने भारत के लिए कई बड़ी घोषणाएं की हैं।

नेक्सट बिलियन

आज के दौर में पूरी दुनिया में सिर्फ दो देश हैं, जहां की जनसंख्या सबसे ज्यादा है, जिसमें चीन के बाद दूसरा नंबर भारत का आता है। लेकिन जिस दर पर हम एक राष्ट्र के रूप में प्रगति कर रहे हैं, संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि हम 2022 तक चीनी आबादी को आगे बढ़ जाएंगे। दो उभरते महाशक्तियों के जनसांख्यिकी पर एक करीब से नजर आपको बताएगा कि भारत एक अधिक आकर्षक बाजार के लिए क्यों बनाता जा रहा है। एक सक्रिय युवाओं, जुड़ा नागरिकों की सशक्त उपस्थिति और वास्तव में मोबाइल-प्रथम विश्व ऐसा बनाते हैं। लेकिन यह सब से ऊपर, नि: शुल्क और इंटरनेट तक उचित पहुंच है।

ऐसे अजीब मिश्रण के साथ भारत विकास के लिए शानदार अवसर प्रदान करता है। गूगल ने विकास के लिए इस उत्प्रेरक को पकड़ा है। इसमें उत्पादों और सुविधाओं की एक सरणी की घोषणा की गई है जिसके माध्यम से इसका उद्देश्य भारतीय इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के बढ़ते आधार के लिए ‘अमीर अनुभव’ प्रदान करना है।

गूगल के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के वाइस प्रेसिडेंट Caesar Sengupta के अनुसार आने वाले बिलियन यूजर्स को यह बताना हमारा उद्देश्य है कि लोगों को यह पता चले कि इंटरनेट कैसे उनके जीवन को आसान और अधिक सुविधाजनक बना सकता है। चाहे वह समय पर भुगतान बिलों की सहायता कर रहा हो, आपको तेजी से रास्ते बता रहा हो। ये उत्पाद और विशेषताएं भारत के लिए पहले हैं। उन्होंने कहा कि जब हम भारत के लिए बेहतर उत्पाद बनाते हैं, हम अंततः सभी के लिए बेहतर उत्पाद बनाते हैं।

बजट डिवाइस के लिए एंड्राइड

प्रमुख कारणों में से एंड्राइड बाजार में हिस्सेदारी हासिल कर रहा है। एंट्रील लेवल के स्मार्टफोन और टैबलेट एंड्राइड पर कार्य करते हैं। वहीं, एंड्राइड प्लेटफॉर्म का उपयोग एंट्री लेवल के साथ-साथ फ्लैगशिप डिवाइस पर भी किया जा रहा है जो कि आईपैड और आईफोन को टक्कर देते हैं। लेकिन इसके साथ भी विखंडन की समस्या आती है। गूगल उस समस्या को हल करने के लिए उत्सुक है

गूगल I/O 2017 में एंड्राइड गो को पेश करने के बाद अब आखिरकार यह भारतीय मार्केट में आ गया है। प्ले और एंड्राइड प्रोडेक्ट मैंनजमेंट के वाइस प्रेसिडेंट Sameer Samat का कहना है कि एंड्राइड Oreo (Go एडिशन) डेवलपर के लिए एंड्राइड इकोसिस्टम में मौजूद है।

भारत में एंड्राइड Oreo का ‘Go’ एडिशन उपलब्ध कराएगी, जो खास तौर पर बजट स्मार्टफोन्स के लिए होगा। ये बजट स्मार्टफोन्स को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करेगा। Go को रोलाउट करते समय गूगल का कहना है जो उपभोक्ता 512MB से 1GB रैम वाले डिवाइस का इस्तेमाल कर रहे हैं वह एक बेहतर अनुभव ले पाएंगे। आमतौर पर इस सेगमेंट के डिवाइस कई एप लोड होने के बाद ठीक प्रकार काम नहीं करते। गूगल असिस्टेंट जैसी सेवाएं एक दूर का लक्ष्य थीं। गूगल Go और असिस्टेंट Go सहित पहले से इंस्टॉल किए गए गूगल एप्स का एक नया सेट भी है, जो अगले अरब उपयोगकर्ताओं की अद्वितीय आवश्यकताओं के लिए ज्यादा आसान होगा।

आज प्रोडेक्ट मैंजमेंट डायरेक्टर Gummi Hafsteinsson ने इस बात की घोषणा की पहली बार ग्लोबली गूगल असिस्टेंट अब फीचर फोन में भी उपलब्ध होगा। गूगल AI असिस्टेंट रिलायंस JioPhone में उपलब्ध कराया जाएगा।

गूगल Go, एक नए इंडियन इंटरनेट यूजर के लिए

यह स्पष्ट है कि गूगल भारत में लाखों नागरिकों के इंटरनेट कनेक्टिविटी तक पहुंच बनाने की कोशिश की है। जब यह उपयोगकर्ताओं को एआई और मशीन लर्निंग की पेशकश के माध्यम से विकसित करने का लक्ष्य रखता है तो यह एंड्राइड Go के माध्यम से उपयोगकर्ता के अनुभव को अनुकूलित करके बजट उपयोगकर्ताओं को भी बेहतर अनुभव प्रदान करता है। गूगल के वीपी इंजीनियरिंग, शशिधर ठाकुर ने गूगल Go की शुरुआत करते हुए कहा कि गूगल सर्च लाखों लोगों के लिए पहली बार पहली बार ऑनलाइन आने की मौजूदगी दर्ज करेगा।

गूगल Go आज से गूगल प्ले स्टोर पर प्रीव्यू के लिए उपलब्ध हो चुका है। यह गूगल की ओर से एर और एप है, जिसकी मदद से आप अपने सवाल को हिंदी में पुछ सकते हैं। काफी संभावना है कि आप अधिक भाषाओं को सूची में जोड़ा सकते हैं। इस तरह, अंग्रेजी में सीमित कौशल वाले उपयोगकर्ता इंटरनेट तक अपनी नई खोज की सुविधा के साथ लाभ भी ले सकते हैं, जो कि अंग्रेजी द्वारा काफी प्रेरित हैं।

टू व्हीलर नेविगेशन

गूगल ने अपने गूगल मैप में एक विशेष टू-व्हीलर मोड की भी घोषणा की। गूगल मैप्स के डायरेक्टर Martha Welsh ने कहा, “भारत दुनिया का सबसे बड़ा टू व्हीलर बाजार है और इन लाखों सवारों को नेविगेशन की जरूरत ऑटोमोबाइल ड्राइवर्स से अलग है। मैप्स में टू-व्हीलर मोड ऐसे मार्ग प्रदान करता है जो शॉर्टकट का उपयोग करते हैं। इन मार्गें में कार नहीं सिर्फ बाइक जा सकती है। यह कस्टम यातायात और आगमन के समय अनुमान भी प्रदान करता है।

तेज

सिंतबर में लॉन्च होने के बाद आज गूगल तेज पर 12 मिलियन यूजर्स हैं। इस एप में एक नए बिल पे फीचर को जोड़ा गया है। गूगल इंडिया के पहले मोबाइल पेमेंट एप तेज पर अब 12 मिलियन यूजर्स हैं। इन यूजर्स को बिल पे करने के लिए कंपनी ने एक कस्टमाइज्ड एक्सपीरियंस जारी किया है।

  • Published Date: December 5, 2017 1:57 PM IST
  • Updated Date: December 5, 2017 2:20 PM IST