comscore
News

उच्च संचालन मानकों को लेकर शेयरधारकों के साथ जुड़े रहे हैं : इंफोसिस

एन. आर. नारायणमूर्ति के नेतृत्व में कंपनी के संस्थापकों ने कंपनी निदेशक मंडल को फिर से गठित किए जाने की मांग की थी जिसके पीछे कई कारण थे।

  • Published: September 4, 2017 3:00 AM IST
infosys-logo

कंपनी संस्थापकों और निदेशक मंडल के पूर्व सदस्यों के बीच संचालन में कथित खामियों को लेकर जारी कटुता के दौर से पार पाने की कोशिशों में लगी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इंफोसिस ने कहा कि वह संचालन व्यवस्था के उच्च मानकों को सुनिश्चित करने के लिये शेयर धारकों को साथ लेकर भविष्य की रूपरेखा तैयार कर रही है।

उल्लेखनीय है कि एन. आर. नारायणमूर्ति के नेतृत्व में कंपनी के संस्थापकों ने कंपनी निदेशक मंडल को फिर से गठित किए जाने की मांग की थी जिसके पीछे कई कारण थे। इसमें इंफोसिस द्वारा 20 करोड़ डॉलर में किए गए पनाया अधिग्रहण में विसंगतियां और पूर्व कार्यकारियों को उनकी सेवा के बदले दिए गए भुगतान को लेकर गड़बड़ी के बारे में शिकायतें मिलना शामिल हैं।

इसी संदर्भ में 24 अगस्त को कंपनी के तब के चेयरमैन आर. शेषसायी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और सह-संस्थापकों में से एक नंदन नीलेकणि को गैर-कार्यकारी चेयरमैन बनाया गया। इसे भी देखें: अगस्त में COMIO, Nuu और Jivi ने भारत में लॉन्च किए शानदार स्मार्टफोन

शेयर बाजार को दी जानकारी में कंपनी ने बताया कि 25 अगस्त 2017 की घोषणा के अनुसार कंपनी ने व्यापक आधार वाले शेयरधारकों के साथ सलाह-मशविरा शुरु किया है ताकि भविष्य की रणनीति को तय किया जा सके। कंपनी कामकाज के उच्चतम मानकों को तय करना सुनिश्चित रखना जारी रखेगी। कंपनी ने कहा है कि इस तरह के विचार विमर्श और बातचीत के दौरान कोई भी शेयर मूल्य से जुड़ी संवेदनशील जानकारी अथवा ताजा वित्तीय जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जायेगी। इसे भी देखें: भारत सहित अन्य देशों में बाढ़ प्रभावितों की मदद को आगे आई फेसबुक, दस लाख डालर दिए

कंपनी के संस्थापकों में प्रमुख रहे नारायणमूर्ति ने कंपनी के पिछले निदेशक मंडल के रहते कमजोर संचालन व्यवस्था को लेकर चिंता व्यक्त की थी। हालांकि, कंपनी के पूर्व चेयरमैन आर. शेषसायी ने ‘‘व्यक्तिगत हमलों’’ और ‘‘गलत एवं बदनाम करने वाले’’ आरोपों को लेकर आज नारायणमूर्ति पर हमला बोल दिया। शेषसायी ने कहा कि वह नारायणमूर्ति की तरफ से लगातार किये जा रहे हमलों के पीछे के मकसद को नहीं समझ पाये हैं। इसे भी देखें: नारायणमूर्ति के आरोप झूठे, बदनाम करने वाले: इन्फोसिस के पूर्व चेयरमैन

  • Published Date: September 4, 2017 3:00 AM IST