comscore
News

इसरो का चंद्रयान-2 मिशन हॉलिवुड की इस फिल्म के बजट से भी कम में हो जाएगा पूरा

चंद्रयान -2 मिशन अप्रैल 2018 के आस पास लॉन्च किया जाएगा।

  • Published: February 20, 2018 5:30 PM IST
moon-stock-image

क्या आप इस बात से सहमत हैं कि हॉलीवुड में बनाई जाने वाली साइंस-फिल्में महंगी होती हैं? लेकिन क्या आप जानते हैं कि असल में यह मिशन बहुत सस्ते होते हैं? और जब यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की बात आती है, तो कुछ सबसे महत्वपूर्ण मिशन VFX-laden वाली हॉलीवुड फिल्मों की तुलना में सस्ता है।

भारत का अगला महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 हॉलिवुड फिल्म इंटरस्टेलर (अंतरिक्ष पर आधारित फिल्म) की लागत से भी सस्ता बताया जा रहा है। साल 2014 में आई इस फिल्म का बजट करीब 1,062 करोड़ रुपए का था। वहीं, अगर बात करें चंद्रयान-2 मिशन पर खर्च होने वाले रुपए की तो यह लगभग 800 करोड़ रुपए के आस-पास है।

अगर बात करें इससे पहले के मंगलयान मिशन पर बनी हॉलिवुड फिल्म ग्रैविटी की तो वह भी मंगलयान पर खर्च हुए बजट से ज्यादा की बनी थी। मंगलयान पर 470 करोड़ रुपए खर्च हुए थे और ग्रैविटी फिल्म को बनाने में 644 करोड़ रुपए लगे थे।

TOI को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में इसरो के चैयरमेन डॉ. K Sivan ने समझाया कि स्पेस एजेंसी के इंटरप्लनेटरी मिशनों को इतनी लागत प्रभावी क्यों होती है उन्होंने कहा, “प्रणाली को सरल बनाना, बड़े सिस्टम को छोटा करना, क्विलिटी को कंट्रोल करना और उत्पाद से अधिकतम उत्पादन के कारण हमारे अंतरिक्ष मिशन को सस्ता बनाते हैं। हम अंतरिक्ष यान के विकास के प्रत्येक चरण पर सख्ती से निगरानी रखते हैं, इसलिए हम उत्पादों की बर्बादी को बचाते हैं, इससे हमारे मिशन की कॉस्ट कम हो जाती है।

इसरो चंद्रयान-2 मिशन को अप्रैल में लॉन्च करने की कोशिश की जाएगी। इस मिशन के तहत चंद्रमा की सतह पर सॉफ्टलैंडिंग के साथ रोवर वॉक होगी। हालांकि लॉन्च डेट को तय करने से पहले कई फैक्टर्स को देखना होगा।

  • Published Date: February 20, 2018 5:30 PM IST