comscore
News

साल 2022 तक दोगुना होगा मोबाइल ब्राडबैंड सब्सक्रिप्शन

मोबाइल ब्राडबैंड सब्सक्रिप्शन 2016 के अंत में 4.3 9 बिलियन से 10 लाख की दर से बढ़ कर 2022 में 8.28 अरब हो जाएगा।

mobile

Ericsson द्वारा जारी लेटेस्ट मोबिलिटी रिपोर्ट के मुताबिक, मोबाइल ब्राडबैंड सब्सक्रिप्शन 2016 के अंत में 4.3 9 बिलियन से 10 लाख की दर से बढ़ कर 2022 में 8.28 अरब हो जाएगा। वास्तव में 2022 तक 92 प्रतिशत के लिए मोबाइल ब्राडबैंड सब्स्क्रिप्शन 8.98 अरब होगा, जो कि 2016 के अंत में 59 प्रतिशत यानी की 7.5 बिलियन सब्स्क्रिप्शन थी। दुनिया भर में 2022 तक मोबाइल डाटा ट्रैफिक 71 exabytes प्रति महीने तक पहुंच जाएगा। वहीं, वर्तमान में मोबाइल डाटा ट्रैफिक 8.8 exabytes है।

पहले से अब 4जी सब्सक्रिप्शन बढ़ रही हैं। 2013 के बाद से वॉयस ऑफ एलटीई में बढ़त देखी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 तक वीडियो के लिए 75 प्रतिशत मोबाइल डाटा ट्रैफिक अकाउंट सेट किया गया है, जो कि आज से 50 प्रतिशत अधिक है। माना जा रहा है कि 2016 में 2.1जीबी मोबाइल डाटा ट्रैफिक थी, जो कि साल 2022 में 12जीबी तक पहुंच सकता है।

हाल ही में Ericsson ने भारतीय बाजार में डुअल बैंड रेडियो उत्पाद लॉन्च किया, जिसे दूरसंचार सेवाप्रदाताओं द्वारा अपनी क्षमता बढ़ाने और लागत तथा ऊर्जा उपयोग घटाकर ग्राहकों के अनुभव में वृद्धि करने को ध्यान में रखकर बनाया गया है। कंपनी के नवीनतम उत्पादों में ‘वाइडबैंड रेडियो 2242’ है, जो एक सिंगल रेडियो है, जो दो स्पेक्ट्रम बैंड (1800 मेगाहट्र्ज और 2100 मेगाहट्र्ज) पर चलता है और दूसरा उत्पाद ‘ड्यूअल बैंड रेडियो डॉट’ है, जो इंडोर मोबाइल ब्राडबैंड कनेक्टिविटी में उल्लेखनीय वृद्धि करता है।

इसे भी देखें: जियोनी P7 को मिली ओटीए अपडेट के साथ ViLTE क्षमता

एरिक्सन इंडिया के नेटवर्क उत्पाद के प्रमुख नितिन बंसल ने एक बयान में कहा, “एरिक्सन के ड्यूअल बैंड रेडियो समाधान की नवीनतम रेंज को भारतीय ऑपरेटरों की क्षमता बढ़ाने की बढ़ती मांग, आउटडोर और इनडोर कवरेज में सुधार को ध्यान में रखते हुए विकसित किया गया है।”

इसे भी देखें: Yu Yureka Black आज एक बार फिर सेल के लिए होगा उपलब्ध

‘वाइडबैंड रेडियो 2242’ से ऑपरेटर कांपैक्ट ड्यूअलबैंड, ट्रिपल स्टैंडर्ड साइट का निर्माण कर सकते हैं, जिसमें कम से कम हार्डवेयर का प्रयोग किया जाता है। यह पारंपरिक उपकरणों से 50 फीसदी कम जगह घेरती है और केबलिंग की लागत में भी कमी लाती है तथा उपलब्ध स्पेक्ट्रम का पूर्ण दोहन करती है।

इसे भी देखें: वनप्लस ने भारत-पाकिस्तान फाइनल मैच के दौरान दिखाया वनप्लस 5 का एड

  • Published Date: June 19, 2017 2:30 PM IST