comscore
News

तमिलनाडु में नोकिया संयंत्र को एक अनाथ बच्चे की तरह छोड़ दिया गया: रविशंकर प्रसाद

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि श्रीपेरंबदूर स्थित नोकिया के संयंत्र को "अनाथ बच्चे" की तरह छोड़ दिया गया और केंद्र फिर से परिचालन शुरू करने का प्रयास कर रही है।

  • Published: December 26, 2017 10:00 PM IST
Nokia-Make-in-India-gallery

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि श्रीपेरंबदूर स्थित नोकिया के संयंत्र को “अनाथ बच्चे” की तरह छोड़ दिया गया और केंद्र फिर से परिचालन शुरू करने का प्रयास कर रही है।

फिनलैंड की कंपनी नोकिया की श्रीपेरंबदूर संयंत्र पूरी क्षमता के साथ परिचालन के समय 8,000 लोगों को रोजगार प्रदान करता था। 2014 में माइक्रोसॉफ्ट और नोकिया के बीच हुए 7.2 अरब डॉलर के करार के बाद यह फैक्टरी काम नहीं कर रही है।

प्रसाद ने कहा, “नोकिया ने इसे एक अनाथ बच्चे की तरह छोड़ दिया… मैंने भरसक कोशिश की। माइक्रोसॉफ्ट ने नोकिया को खरीद लिया लेकिन कराधान मुद्दे के कारण नोकिया के इस संयंत्र को छोड़ दिया। हम इसको फिर से शुरू कराने पर काम कर रहे हैं।” भारतीय उद्योग परिसंघ की ओर से यहां आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, “संयंत्र को लेकर हम (सरकार) अपना काम कर रहे थे… एक-दो कंपनियों के साथ प्रयास किया गया… यह कामयाब नहीं हुआ… लेकिन इसे परिचाल योग्य बनाने के लिए हम अपना काम कर रहे हैं।” एप्पल के देश में विनिर्माण इकाई स्थापित करने के प्रस्ताव पर रविशंकर ने कहा कि सरकार कंपनी के साथ बातचीत कर रही है। सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग में 40 लाख लोग “प्रत्यक्ष” रूप से और 1.30 करोड़ लोग “अप्रत्यक्ष” रूप से जुड़े हुए हैं। इनमें एक-तिहाई महिलाएं हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 8 करोड़ भारतीयों को दस हजार, 50 हजार, 5 लाख और 10 लाख रुपये के कुल चार लाख करोड़ रुपये ऋण के रूप में दिए गए।

  • Published Date: December 26, 2017 10:00 PM IST