comscore
News

क्या ऑनलाइन शॉपिंग महंगी तो नहीं पड़ रही? ऐसे पता करें

यह एप बताएगा ऑनलाइन सस्ता है या ऑफलाइन।

  • Published: May 20, 2018 1:00 PM IST
online-shopping-payment

क्या आपने कभी सोचा है कि जो सामान आप ऑनलाइन ज्यादा पैसे देकर खरीदते हैं, वही सामान आपको अपने पास की दुकानों से सस्ते दामों पर मिल सकता है। ‘प्राइस मैप’ नाम के एप के पास आपके दिमाग में अक्सर ऐसे उठने वाले इन सारे सवालों का जवाब है। आप प्राइस मैप के एप से किसी सामान की ऑनलाइन कीमत की तुलना अपने शहर की दुकानों में मिल रहे उसी आइटम की कीमत से कर सकते हैं। प्राइस मैप के फाउंडर सुरेश काबरा को तरह-तरह के आइटम ऑनलाइन खरीदने का शौक था। एक दिन वह दिल्ली के पंचकुइया मार्केट में घूम रहे थे। वहां वह यह देखकर हैरान रह गए कि जिस लैपटॉप की टेबल को उन्होंने ऑनलाइन जितनी कीमत में खरीदा है, उसी कंपनी की वही टेबल 30 फीसदी कम दाम पर बाजार में उपलब्ध है।

इस घटना से उनके दिमाग में बिजनेस का एक नया आइडिया आया और यहीं से प्राइसमैप का जन्म हुआ। दिल्ली-एनसीआर में यह एप काफी लोकप्रिय हो चुका है। इस स्टार्टअप की टीम में 16 सदस्य हैं, जिनमें प्राइस मैप के को-फाउंडर शिशिर दुबे भी शामिल हैं। दुबे ने बताया कि प्राइस मैप दरअसल एक मोबाइल एप है, जो उपभोक्ताओं को ऑनलाइन खरीदे जाने वाले उत्पाद की कीमत की तुलना उनके शहर के स्थानीय बाजारों में मिल रहे उसी उत्पाद की कीमत से करवा सकती है।

इससे उन्हें काफी आसानी से पता चल सकता है कि क्या उन्हें वाकई ऑनलाइन शॉपिंग में सस्ता सामान मिल रहा है या दुकानों पर वह सामान ऑनलाइन से भी ज्यादा सस्ता है। जून 2016 में लॉन्च किए गए प्राइसमैप नामक एप पर विभिन्न वस्तुओं के कई सेलर्स रजिस्टर्ड हैं। इनमें मोबाइल, घरेलू सामान, होम ऑडियो विडियो, डिजिटल कैमरे व अन्य सामान के सेलर्स शामिल हैं।

  • Published Date: May 20, 2018 1:00 PM IST