comscore
News

आरकॉम का दावा: सभी 31 ऋणदाताओं ने चाइना बैंक के फैसले का विरोध किया

आरकॉम ने दावा किया कि उसके ज्यादातर ऋणदाताओं ने चाइना डेवलपमेंट बैंक सीडीबी के उसके खिलाफ ऋणशोधन प्रक्रिया शुरू करने के फैसले का विरोध किया है।

  • Published: December 2, 2017 7:00 AM IST
reliance-communications-logo

अनिल अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) ने आज दावा किया कि उसके ज्यादातर ऋणदाताओं ने चाइना डेवलपमेंट बैंक सीडीबी के उसके खिलाफ ऋणशोधन प्रक्रिया शुरू करने के फैसले का विरोध किया है। कंपनी पर 45,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है।

आरकॉम ने एक बयान में कहा है, ‘ऋणदाताओं की समिति की बैठक 29 नवंबर को हुई और इनमें से ज्यादातर ने सीडीबी की ऋणशोधन याचिका का विरोध करने का फैसला किया।’ कंपनी का दावा है कि इस तरह का फैसला करने वाले घरेलू व विदेशी ऋणदाताओं की कुल संख्या 31 है। इन ऋणदाताओं ने राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण एनसीएलटी के समक्ष दायर सीडीबी की ऋणशोधन याचिका का विरोध करने का फैसला किया है।

बयान में यह भी दावा किया गया है कि ऋणदाताओं ने एनसीएलटी में शुरुआती प्रक्रिया में ही सीडीबी की याचिका का विरोध करने का फैसला किया है और जे सागर एसोसिएट्स को अपना वकील नियुक्त किया है। आरकॉम को कर्ज देने वाले घरेलू बैंकों के समूह की अगुवाई भारतीय स्टेट बैंक करता है। किसी भी बैंकर ने इस घटनाक्रम पर टिप्पणी नहीं की।

  • Published Date: December 2, 2017 7:00 AM IST