comscore
News

रिलायंस जियो कॉइन: इस फेक वेबसाइट से बचें

वेबसाइट, जो URL reliance-jiocoin.com के नाम से है, वह RIL का सिस्टर ऑर्गनाइजेशन लग रहा है।

  • Published: January 25, 2018 12:00 PM IST
reliance-jio-mukesh-ambani-screengrab

टेलीकॉम सेक्टर में फ्री ऑफर और हाइपर-प्रतिस्पर्धी टैरिफ ऑफर करने के बाद अब रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने अपनी खुद की cyptocurrency, JioCoin बनाने की योजना बनाई है। जिसके बाद एक फेक वेबसाइट सामने आई है। वेबसाइट, जो URL reliance-jiocoin.com के नाम से है, वह RIL की सिस्टर ऑर्गनाइजेशन लग रही है।

इसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज का आइकन भी है, जो कि जियो की पेरेंट ऑर्गनाइजेशन का है। वेबसाइट में कहा गया है कि लॉन्च के समय जियो कॉइन की कीमत 100 रुपए होगी। साथ ही यहां यूजर्स को अपने पुरे नाम और ईमेल एड्रैस के साथ रजिस्टर करने के लिए कहा जा रहा है। हालांकि, आर्टिकल लिखते समय वेबसाइट ओपन नहीं हो रही थी।

हाल ही में आई रिपोर्ट के मुताबिक, मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश अंबानी JioCoin प्रोजेक्ट को लीड करेंगे। JioCoin के लिए आकाश अंबानी के नेतृत्व में 50 प्रोफेशनल की एक टीम बनाई जाएंगी। वहीं, इस टीम में 25 साल के लोग शामिल होंगे। यह टीम JioCoin के लिए ब्लॉकचेन तकनीक बनाएगी साथ ही इससे जुड़ी अन्य तकनीकी पहलुओं पर नजर रखेगी। बता दें कि पिछले साल 2017 में cyptocurrency काफी पॉपुलर रहा है। लाखों लोगों ने cyptocurrency में निवेश करना और उसमें पैसे लगाने शुरू किए थे। वहीं, अब इस सेक्टर में रिलायंस जियो भी निवेश करने की योजना बना रही है।

ब्लॉकचैन एक डिजिटल लेजर है, जो डाटा को स्टोर करता है, जिसमें वित्तीय ट्रांजेक्शन शामिल है, लेकिन यह लिमिटेड नहीं है। ब्लॉकचैन कॉपी किए बिना जानकारी decentralize करता है। यह जानकारी डाटाबेस के माध्यम से ब्लॉकचैन पर शेयर की जाती है, जिसे रियल-टाइम के आधार पर एक्सेस किया जा सकता है। यह डाटाबेस फिजिकल सर्वर पर स्टोर नहीं किया जाता है, लेकिन इसे क्लाउड पर स्टोर किया जाता है। क्लाउड पर अनलिमिटेड डाटा को आसानी से स्टोर किया जा सकता है।

  • Published Date: January 25, 2018 12:00 PM IST