comscore
News

पूर्वोत्तर राज्यों में मोबाइल टावर परियोजना पर जल्द विचार कर सकता है दूरसंचार आयोग

पूर्वोत्तर क्षेत्र में मोबाइल संपर्क में सुधार को लेकर दूरसंचार कनेक्टिविटी योजना आठ सितंबर को दूरसंचार आयोग के समक्ष रखी जाएगी।

  • Published: September 4, 2017 3:30 PM IST
spectrum-auction

अंतर-मंत्रालयी निकाय दूरसंचार आयोग पूर्वोत्तर क्षेत्र के दूरसंचर नेटवर्क से कटे गांवों में मोबाइल टावर लगाने के प्रस्ताव पर विचार कर सकता है। एक सरकारी अधिकारी ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘पूर्वोत्तर क्षेत्र में मोबाइल संपर्क में सुधार को लेकर दूरसंचार कनेक्टिविटी योजना आठ सितंबर को दूरसंचार आयोग के समक्ष रखी जाएगी।’’ पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिये मोबाइल टावर व्यापक दूरसंचार विकास योजना के तहत स्थापित किया जाएगा। इस योजना को मंत्रिमंडल ने 2014 में मंजूरी दी थी।

योजना के तहत दूरसंचार नेटवर्क से कटे 9,190 गांवों में से 8,621 गांवों को 6,673 मोबाइल टावर कवर करेंगे। इस पर अनुमानित 5,336.18 करोड़ रुपये का व्यय होगा। परियोजना की देख रेख कर रहा यूनिवर्सल सर्विस आब्लिगेशन फंड (यूएसएफओ) 6,673 मोबाइल टावरों में से 4,000 के लिये बोली प्रस्ताव दे सकता है। इसे भी देखें: 21 सितम्बर से शुरू होगी रिलायंस के बहुप्रतीक्षित JioPhone की डिलीवरी: रिपोर्ट

सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल को अरूणाचल प्रदेश के दुर्गम क्षेत्रों तथा असम के दो जिलों….कार्बी एंगलोंग और दीमा हसाओ में नेटवर्क स्थापित करने की जिम्मेदारी मिली है। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी ने विहान नेटवर्क लि. और एचएफसीएल से 1,648 करोड़ रुपये में 2,000 टावर लगाने के लिये प्राप्त बोली जमा की है। दूरसंचार उपकरण बनाने वाली ये दोनों घरेलू कंपनियों ने नक्सली हिंसा से प्रभावित नौ राज्यों के विभिन्न क्षेत्रों में बीएसएनएल के लिये मोबाइल नेटवर्क परियोजना लगायी थी। शेष परियोजना निजी दूरसंचार परिचालकों की मदद से लगायी जाएगी। निविदा के लिये निजी दूरसंचार कंपनियों से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। अंतत: यूएसओएफ को इस साल भारतीय एयरटेल से बोली मिली है। एयरटेल ने ने 2,000 टावर लगाने के लिये 1,660 करोड़ रुपये की बोली लगायी है। इसे भी देखें: सैमसंग Galaxy C8 में होगा डुअल कैमरा, सामने आई जानकारी

सूत्रों के अनुसार यूएसओएफ ने मेघालय में मोबाइल टावर लगाये जाने की योजना फिलहाल टाल दी है। इस परियोजना पर अलग निविदा के जरिये काम किया जाएगा। दूरसंचार आयोग को दो बोलियों के बीच कीमत अंतर और भारती एयरटेल से मिजी एकमात्र बोली की वैधता पर निर्णय करना है। इसे भी देखें: IFA 2017: Alcatel ने पेश किये अपने Idol 5S, Idol 5, A7 XL और A7 स्मार्टफोन

  • Published Date: September 4, 2017 3:30 PM IST