comscore
News

ट्राई ने टेलीकॉम कंपनियों को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से स्पैम मैसेज रोकने के आदेश दिए

ट्राई ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए स्पैम को रोकने का आदेश दिया है।

telecom-tower-pixabay-stock-image

टेलीकॉम रेगुलेटर अथॉरिटी (ट्राई) ने स्पैम संदेशों को लेकर सख्ती बरती है। ट्राई ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए स्पैम को रोकने का आदेश दिया है। ट्राई ने टेलीकॉम ऑपरेटर्स को ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी अपनाने को कहा है ताकि रजिस्टर्ड टेलीमार्केटर्स के पास ही फोन के डाटाबेस का एक्ससे हो और इस तरह के संचार के लिए यूजर्स की सहमति ली गई हो।

बता दें कि यूजर्स स्पैम मैसेज को लेकर खासा परेशान रहते हैं। ट्राई ने अब इसे लेकर सख्त कदम उठाया है और ऐसे मैसेजों को रोकने के लिए मोबाइल टेलीकॉम ऑपरेटर्स से ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना को कहा है। ट्राई ने इसे लेकर नए नियम भी जारी किए हैं।

क्या है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी
ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी डिजिटल खाता है। यहां किसी भी चीज का डिजिटल खाता बनाकर रखा जा सकता है। यानी आपके क्रेडिट से लेकर डेबिट व बैंक ट्रांजैक्शन का डिजिटल खाते को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए सुरक्षित रख उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है। यहां डिजिटल करेंसी का भी रिकॉर्ड रखा जा सकता है।

ब्लॉकचेन एंड क्रिप्टोकरेंसी कमेटी ऑफ द इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के पूर्व हेड अजीत खुराना ने ट्राई के इस आदेश का स्वागत किया है। उनका कहना है कि ट्राई का यह आदेश सही दिशा में लिया गया है। डिजिटल संपत्ति के लिए ब्लॉकचेन सबसे महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजी है। ब्लॉकचेन से डाटाबेस सिक्योर होगा।

  • Published Date: July 20, 2018 1:36 PM IST
  • Updated Date: July 20, 2018 1:43 PM IST