comscore
News

केबल बिछाने और टावर लगाने में आ रही हैं दिक्कतें, दूरसंचार कंपनियों ने सरकार से मदद मांगी

डिजिटल इंडिया के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर जोर दिए जाने के बीच दूरसंचार कंपनियों ने फाइबर केबल बिछाने और टावर लगाने में आ रही दिक्कतों को रेखांकित करते हुए सरकार से मदद मांगी।

  • Published: September 28, 2017 10:30 AM IST
spectrum-auction

डिजिटल इंडिया के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर जोर दिए जाने के बीच दूरसंचार कंपनियों ने आज फाइबर केबल बिछाने और टावर लगाने में आ रही दिक्कतों को रेखांकित करते हुए सरकार से मदद मांगी। विशेषकर एयरटेल और आइडिया जैसी पुरानी कंपनियों ने ऊंची स्पेक्ट्रम लागत और नियामकीय मंजूरी जैसे पुराने मुद्दों को उठाते हुए कहा कि इसके साथ मोबाइल इंटरकनेक्शन उपयोक्ता शुल्क आईयूसी में कटौती का उन पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।

इन कंपनियों ने सरकारी भवनों में टावर लगाने के मामले में जहां राज्य सरकारों और स्थानीय नगर निकायों से बेहतर सहयोग की उम्मीद की वहीं केंद्र सरकार से महंगे स्पेक्ट्रम, विलय और अधिग्रहण, कम शुल्क दरों व व्यापार सुगमता जैसे मुद्दों में हस्तक्षेप की आशा जतायी। इन कंपनियों ने यहां प्रगति मैदान में इंडिया मोबाइल कांग्रेस में अपनी समस्याएं, चिंताएं और उम्मीदें साझा की। इन कंपनियों ने हालांकि इस बात पर सहमति जताई कि भारत को डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने, हर नागरिक को कनेक्ट करने का सपना साझे प्रयासों से ही संभव होगा। कंपनियां यहां निवेश कर रही हैं और करेंगी जबकि सरकार से कुछ मामलों में हस्तक्षेप अपेक्षित है। भारत में यह अपनी तरह का पहला आयोजन है जिसमें देश दुनिया की दिग्गज मोबाइल व आईटी कंपनियां भाग ले रही हैं।

भारती एयरटेल के प्रबंध निदेशक गोपाल विट्टल ने एक परिचर्चा में कहा, ‘‘ दूरसंचार उद्योग पर कर की दर बहुत ज्यादा है। यह 29 से 32 प्रतिशत के दायरे में आता है। (देश में) स्पेक्ट्रम की लागत सबसे ज्यादा में से एक है जबकि कॉल दरें सबसे कम में से एक है। (ऐसे में) डिजिटल इंडिया के स्वप्न को पूरा करने के लिए इन सभी में बदलाव की जरूरत है।’’ विट्टल ने कहा कि बीते दो साल में भारती एयरटेल का निवेश उसके द्वारा पिछले 20 साल में किए गए कुल निवेश से भी अधिक है। चुनौतियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि ‘‘ भारत में स्पेक्ट्रम की लागत दुनिया में सबसे ज्यादा है और कॉल इत्यादि दरें दुनिया में सबसे कम बनी हुई हैं।’’ उन्होंने कहा कि इससे पूरे दूरंसचार उद्योग पर 4,50,000 करोड़ रुपये का कर्ज है जबकि पूंजी पर रिटर्न की दर करीब एक प्रतिशत और ‘यह वह समस्याएं हैं जिन्हें पहचानने की जरूरत है।’ विट्टल ने इस बात पर जोर दिया कि यदि ‘डिजिटल इंडिया’ के लक्ष्य को पाना है तो इसमें बदलाव की जरूरत है। उन्होंने ऑप्टिकल फाइबर बिछाने और विलय एवं अधिग्रहण की नीति से जुड़े मुद्दों पर भी ध्यान दिलाया।

विट्टल ने कहा कि जब दूरसंचार कंपनियों को ऑप्टिकल फाइबर बिछानी होती है तो अनुमति इत्यादि के लिए सरकारी इमारतों में अंदर जाना उनके लिए एक ‘दर्दभरी प्रक्रिया’ होती है। इसी तरह उन्होंने विलय और अधिग्रहण सौदों की प्रक्रिया आसान बनाने की जरूरत जताई। उन्होंने कहा, ‘‘जब हम विलय एवं अधिग्रहण नीति पर आगे बढ़ते हैं तो जिस गति से यह चलती है वह अपने आप में एक चुनौती है। और इस सभी के लिए मेरा मानना है कि इसे आसान बनाए जाने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि हालांकि विलय एवं अधिग्रहण हो रहे हैं लेकिन सरकार इसे जिस गति से लागू करती है ‘वह बहुत मंद’ है। इसे भी देखें: अमेजन इंडिया पर आज एक बार फिर सेल के लिए उपलब्ध होगा शाओमी Redmi 4A

विट्टल ने माना कि सरकार कारोबार सुगमता के लिए काम कर रही है लेकिन यह भी कहा कि उद्योग जगत के सामने विभिन्न तरह की चुनौतियां हैं। आइडिया सेल्युलर के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हिमांशु कपानिया ने कहा कि बाजार में हाल में आए बदलावों ने उद्योग की गतिशीलता में नाटकीय परिवर्तन लाया है। इसका असर यह हुआ कि दूरसंचार उद्योग को ‘वित्तीय एवं मानसिक’ परेशानियों से गुजरना पड़ा है। इसे भी देखें: Honor 7X स्मार्टफोन चीन में 11 अक्टूबर को देगा दस्तक

उद्योग के सामने व्याप्त नियामकीय एवं वित्तीय मुद्दों के बारे कपाणिया ने हाल में की गई इंटरकनेक्ट शुल्क में कटौती और ऊंची लाइसेंस लागत जैसी कई दिक्कतों पर ध्यान दिलाया। कपाणिया ने कहा, ‘‘कोई भी उद्योग वॉयस एवं डाटा दरों में भारी गिरावट के साथ ज्यादा समय नहीं चल सकता। पिछले एक साल में यह ‘लागत से भी नीचे’ चली गई हैं।’’ इसे भी देखें: गूगल असिस्टेंट के साथ लॉन्च हुआ लावा Z60, कीमत 6,499 रुपए

  • Published Date: September 28, 2017 10:30 AM IST