comscore
News

UIDAI ने एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक के लाइसेंस को किया सस्पेंड

UIDAI ने एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक के e-kYC लाइसेंस को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है।

  • Published: December 18, 2017 11:20 AM IST
airtel 4g

UIDAI ने भारतीय एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक के खिलाफ कड़ी कारवाई करते हुए उनका e-kYC लाइसेंस को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है। जिसके बाद एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक अब e-kYC के जरिए अपने मोबाइल कस्टमर्स के सिम कार्ड का आधार कार्ड बेस्ड वेरिफिकेशन नहीं करा पाएंगे। इसी तरह उसे अपने पेमेंट बैंक कस्टमर्स के वेरिफिकेशन के लिए e-KYC प्रोसेस अपनाने से रोक दिया गया है। UIDAI ने यह कार्रवाई भारती एयरटेल पर आधार e-KYC बेस्ड सिम वेरिफिकेशन के दुरुपयोग के आरोपों के चलते की है।

यह मामला तब सामने आया जब एलपीजी सब्सिडी का अमाउंट उनकी ओर से निर्धारित बैंकों के सेविंग अकाउंट की जगह एयरटेल पेमेंट्स में जमा होने लगा। वहीं, ज्यादातर कस्टमर्स ने ऐसे पेमेंट ट्रांसफर होने की शिकायत की और कहा कि वह एयरटेल पेमेंट्स बैंक अकाउंट के बारे में उन्हे कोई जानकारी नहीं है। साथ ही कस्टमर्स ने आरोप लगाया कि उन्होंने एयरटेल पेमेंट बैंक में अकाउंट ओपन करने की अनुमति नहीं दी है।

इसके साथ ही UIDAI ने इन आरोपों पर भी गंभीर आ​पत्ति जताई है कि कंपनी ने इन पेमेंट बैंक अकाउंट को एलपीजी रसोई गैस ​सब्सिडी हासिल करने के लिए भी सम्बद्ध किया जा रहा था।

जानकार सूत्रों के अनुसार UIDAI ने एक अंतरिम आदेश में कहा, ‘भारती एयरटेल और एयरटेल पेमेंट्स बैंक की e-KYC लाइसेंस को निलंबित किया जाता है।’ जिसका मतलब यह है कि एयरटेल कम से कम फिलहाल के लिए अपने कस्टमर्स के सिम कार्ड को उनके आधार से सम्बद्ध करने के लिए UIDAI की e-KYC प्रसोसे का इस्तेमाल नहीं कर पाएगी। इसके साथ ही एयरटेल पेमेंट्स बैंक आधार e-KYC के जरिए नए अकाउंट भी नहीं खोल पाएगा। हालांकि, इसके लिए अन्य उपलब्ध माध्यमों का इस्तेमाल किया जा सकेगा।

एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा, “हम इसकी पुष्टि कर सकते हैं कि हमें आधार ​सम्बद्ध e-KYC सर्विस के अस्थायी निलंबन के संबंध में UIDAI का अंतरिम आदेश मिला है। प्रवक्ता ने कहा कि यह निलंबन एयरटेल पेमेंट्स बैंक से कस्टमर्स को जोड़ने से जुड़ी कुछ प्र​क्रियाओं को लेकर संतुष्ट होने तक किया गया है।” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द ही इस मामले पर कोई समाधान निकल जाएगा।

उन्होंने कहा कि कंपनी ने इस बारे में कदम उठाए हैं। ऐसा कहा जाता है कि एयरटेल पेमेंट्स बैंक के 23 लाख से अधिक ग्राहकों को उनके इन बैंक खातों में 47 करोड़ रुपए मिले जिनके खोले जाने की उन्हें जानकारी तक नहीं थी। सूत्रों ने कहा कि UIDAI के ध्यान में यह मामला लाया गया था कि एयरटेल के रिटेलरों ने कंपनी के उन उपभोक्ताओं के एयरटेल बैंक में भी खाते खोल दिए जो कि अपने सिम का सत्यापन आधार के जरिए करवाने आए थे। इस बारे में ग्राहकों को पता तक नहीं चला। यही नहीं सम्बद्ध लोगों की एलपीजी सब्सिडी तक ऐसे खातों में आने लगी।

  • Published Date: December 18, 2017 11:20 AM IST