comscore
News

इलेक्शन कमीशन से मिले व्हाट्सएप के अधिकारी, चुनाव से 48 घंटे पहले फेक न्यूज होगी खल्लास!

व्हाट्सएप की टीम चुनाव आयोग के ऑफिसर्स के साथ ही कांग्रेस और बीजेपी नेताओं से भी मिली है।

WhatsApp Pixabay feat

भारत में सबसे लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप धीरे-धीरे फेक न्यूज और अफवाहों का सबसे बड़ा माध्यम बनता जा रहा है। सरकार भी इसे लेकर काफी सख्त है। वहीं, अब सामने आई जानकारी के अनुसार व्हाट्सएप भी इन फेक न्यूज को रोकने की कोशिश में लग गई है। कंपनी भारत में फेक न्यूज वेरिफिकेशन मॉडल का इस्तेमाल करेगी। इससे पहले इस मॉडल का इस्तेमाल मेक्सिको के चुनाव में भी हुआ था।

ईटी की खबर के अनुसार व्हाट्सएप ऐप के अमेरिका हेडक्वॉर्टर और भारतीय ऑफिस के सीनियर ऑफिसर ने चुनाव आयोग के साथ ही बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं से मुलाकात की है। व्हाट्एसप का कहना है कि वह भारत में आने वाले इलेक्शन में अपने प्लेटफॉर्म पर फैलने वाली फेक न्यूज को रोकने की कोशिश करेगी।

व्हाट्सएप ने आयोग से कहा है कि वह फेसबुक की तरह इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सभी गलत कंटेंट को फिल्टर करेगी और उसे यूजर्स तक नहीं पहुंचने होगी। वोटिंग से 48 घंटे पहले व्हाट्सएप इन फेक न्यूज को फिल्टर कर हटाएगी।

व्हाट्सएप अधिकारियों ने ईटी से हुई बातचीत में बताया कि चुनाव में लगने वाली आचार संहिता के समय वह काफी सतर्कता से व्हाट्सएप पर फैलना वाली फेक न्यूज पर लगाम लगाने की पूरी कोशिश करेगी। इससे पहले मैक्सिको

पिछले काफी समय से भारत में व्हाट्सएप से फैल रही फेक न्यूज और अफवाहों ने कई लोगों की जान ली है। हिंसा और सांप्रदायिक सौहाद्ध बिगाड़ने के लिए सीधे तौर पर व्हॉट्सएप से फैली अफवाह को जिम्मेदार माना जा रहा है।

  • Published Date: July 20, 2018 10:20 AM IST