comscore
News

Timeline: अब तक ऐसी रही भारतीय मोबाइल और इंटनेट की यात्रा

भारत में इंटरनेट को आए हुए 22 साल हो चुके हैं, जिसके बाद आज हमार देश पूरे तरह बदल गया है।

Independence Day 2017 Timeline

भारत में इंटरनेट का आगमन 80 के दशक में हुआ था, लेकिन तब यह सिर्फ शैक्षणिक और अनुसंधान उद्देश्यों तक ही ही सीमित था। सार्वजनिक इंटरनेट को नई दिशआ 14 अगस्त 1 995 के दिन मिली, जब सरकार विदेश संचार निगम लिमिटेड (वीएसएनएल) के गेटवे इंटरनेट एक्सेस सर्विस (जीआईएएस) शुरू की, जिससे लोगों को वर्ल्ड वाइड वेब का जानने का मौका मिला। जाहिर है कि उस समय वीएसएनएल भारत के अंतर्राष्ट्रीय संचार पर एकाधिकार था और इंटरनेट की हमारी पहली यादें इसके हस्ताक्षर डायल-अप ट्यून हैं।

बीस साल बाद आज हम दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इंटरनेट इस्तेमाल करने वाली आबादी हैं। आज भारत में 462 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता हैं। वहीं, केवल चीन में 720 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा हम विकसित राष्ट्रों (यूएस, यूके, आदि) से भी आगे बढ़ रहे हैं … जो हमासे पहले ही इंटरनेट और तकनीकी के बारे में जान चुके हैं। भारत की अभूतपूर्व वृद्धि एक जीवंत युवा आबादी, एक तेजी से खुली अर्थव्यवस्था, बढ़ती डिस्पोजेबल आय, धारणाओं / विश्वासों को बदलने और उद्यमियों के दूरगामी दृष्टि से प्रेरित है। (नीचे समयरेखा देखें) इसे भी देखें: गूगल डुओ हुआ अपडेट UI में सुधार के साथ नई नोटिफिकेशन सेटिंग

भारत में 90 के दशक के अंत में अपना पहला मोबाइल फोन कॉल किया गया था। 31 जुलाई 1995 को पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने कोलकाता में मोदी टेल्सट्रा (Modi Telstra) कंपनी के मोबाइल नेट (MobileNet) सर्विस की शुरुआत की थी। दो दशकों के भीतर आज भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा दूरसंचार बाजार है और दूसरा सबसे बड़ा स्मार्टफोन बाजार (अमेरिका के बाद) है। भारत हर तकनीक प्रमुख के वैश्विक परिचालनों में सबसे आगे है भारत फेसबुक का सबसे बड़ा बाजार है, भारत व्हाट्सएप का सबसे बड़ा उपयोगकर्ता आधार है, भारत अमेजन और उबर की सबसे तेजी से बढ़ते बाजार हैं, भारत एंड्राइड के शीर्ष बाजार है इतना ही नहीं दुनिया में कहीं भी एप्पल भारत में अधिक आईफोन बेच रहा है। इसे भी देखें: जानें क्या आपका पार्टनर भी टिंडर का करता है इस्तेमाल

भारत की 70 प्रतिशत आबादी अभी भी गांवों में रहती है। आने वाले समय में भारत तकनीक की दुनिया का केंद्र बन सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे मोबाइल और इंटरनेट विकास अगले चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंच बना रहे हैं। केंद्र सरकार की ‘डिजिटल इंडिया’ पहल से ज्ञान और सूचना के साथ अपने जीवन को सशक्त बनाने के लिए अरब से अधिक नागरिकों से जुड़ने का प्रयास है। 2018 तक, भारत 550 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को पार करने की संभावना रखे बैठा है और 2021 तक, यह संभवतः चीन को दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट अर्थव्यवस्था के रूप में पार करेगा। इसे भी देखें: सैमसंग Galaxy Note 8: 23 अगस्त को लॉन्च से पहले सामने आया नया वीडियो टीजर

हिंदी में अनुवाद: Ankit Dixit

Read In English: Independence Day 2017: Timeline of India’s mobile and internet journey

  • Published Date: August 21, 2017 3:30 PM IST
  • Updated Date: August 21, 2017 4:06 PM IST