comscore
News

ऐसे पता करें एंड्राइड फोन में वायरस है या नहीं

कुछ आसान टिप्स की मदद से फोन में वायरस होने की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

mobile-virus-stock-image

एंड्राइड स्मार्टफोन उपयोग में आसान होते हैं और इनके लिए ढेरों एप्लिकेशन भी उपलब्ध हैं। यही वजह है कि इस आॅपरेटिंग सिस्टम को उपभोक्ताओं द्वारा काफी पसंद भी किया जाता है। किंतु एक ओपेन सोर्स प्लेटफॉर्म होने की वजह से एंड्राइड स्मार्टफोन में वायरस का खतरा भी सबसे ज्यादा होता है।

वायरस आने पर फोन में कई परेशानियां शुरू हो जाती हैं और जिसे हम साधारण समस्या समझते हैं। किंतु बता दें कि वायरस आने पर आपके फोन का बर्ताव अजीब हो जाता है। अगर इन पर ध्यान दिया जाए तो आप वायरस आते ही फोन को प्रोटेक्ट कर सकते हैं। आगे हमने कुछ टिप्स की जानकारी दी है जिनके आधार पर आप पता कर सकते हैं कि आपके एंड्राइड स्मार्टफोन में वायरस है या नहीं।

1. फोन का धीमा होना

एंड्राइड स्मार्टफोन में वायरस आने का सबसे पहला लक्षण है फोन का धीमा होना। फोन की मैमोरी फुल होने पर आमतौर पर कैमरा और ब्राउजिंग जैसी सेवाएं धीमी हो जाती हैं लेकिन वायरस आने पर साधारण कॉल, मैसेजिंग और टाइपिंग के दौरान भी फोन की गति धीमी हो जाती है।

2. डाटा जल्दी समाप्त हो जाना

एंड्राइड फोन में ज्यादातर वायरस इंटरनेट से ही आते हैं और वायरस अटैक की स्थिति में डाटा का खपथ बढ़ जाती है। यदि आपका डाटा प्लान पहले एक महीने आराम से चलता था तो वायरस आने की स्थिति में यह दस दिन, पंद्रह दिन या इससे भी कम समय में खत्म हो जाएगा।

3. फोन गर्म होना

ब्राउजिंग या वीडियो देखने के दौरान फोन वैसे भी गर्म होते हैं लेकिन वायरस आने की स्थिति में यह रखे-रखे या साधारण कॉल व एसएमएस में भी गर्म होने लगता है।

4. तेजी से बैटरी खत्म होना

एंड्राइड स्मार्टफोन में वायरस आने का एक संकेत यह भी है कि फोन में बैटरी तेजी से खत्म होने लगती है। फोन की बैटरी पुरानी है और जल्दी समाप्त हो रही है तो यह साधारण बैटरी की समस्या है लेकिन यदि यह समस्या अचानक पैदा हुई है तो आपके फोन में वायरस है।

5. ज्यादा पॉपअप विज्ञापन

यदि आपके फोन में वायरस है तो इंटरनेट ब्राउजिंग या किसी एप के उपयोग में आपको बहुत ज्यादा पॉपअप विज्ञापन दिखाई देंगे। किसी भी शब्द पर लिंक बन जएगा या खुद से खुल कर सामने आ जाएंगे।

6. फाइल करप्ट और डाटा डिलीट होना

वायरस आने पर आपके फोन में उपलब्ध डाटा खुद ही डिलीट होने लगते हैं या फिर फाइल करप्ट होने लगती है। फोटो और वीडियो जो पहले खुलते थे अचानक से ब्लैंक हो जाएंगे या फाइल फॉर्मेट बदल जाने की वजह से खुलता ही नहीं।

7. बिल बढ़कर आना

वायरस आपके डाटा और फोन डैमेज के साथ आर्थिक नुकसान भी पहुंचाता है। फोन में वायरस आने का असर आपके बिल में भी दिख सकता है। यदि आप प्रीपेड उपभोक्ता हैं तो बैलेंस खत्म हो जाएगा और पोस्टपेड उपभोक्ता का बिल ज्यादा आ सकता है। वायरस फोन में कोई सर्विस एक्टिव कर देता है या इसकी वजह से बैकग्राउंड में कुछ डाउनलोड होता रहता है।

  • Published Date: January 11, 2018 2:20 PM IST
  • Updated Date: January 11, 2018 2:36 PM IST