comscore
News

किसी भी वेबसाइट पर क्लिक करने से पहले जान लें यह बातें

अगर आप भी बिना सोचे-समझे किसी भी वेबसाइट पर क्लिक करते हैं तो जरुर पढें ये खबर।

website-HTTP-stock-image

आज के समय में किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करनें के लिए हम इंटरनेट की मदद लेते हैं। इंटरनेट पर काम करनें के दौरान हम और आप पूरे दिन में न जाने कितनी ही वेबसाइट्स को ओपन करते हैं। लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है कि इन्टरनेट की इस दुनिया में ऐसे बहुत सी वेबसाइट हैं जो आपके कंप्यूटर, लैपटॉप या टैब को भारी नुक्सान पंहुचा सकती हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप किसी भी वेबसाइट को ओपन करने से पहले इस बात की जांच कर लें कि वह वेबसाइट सही है या नहीं। हम आपको आगे कुछ ऐसी जानकारी दे रहे हैं, जिससे आप वेबसाइट्स के बारे में जान सकते हैं कि क्या इन्हें ओपन करना सही है या नहीं?

1. आज के समय में ऑनलाइन खरीददारी का चलन जोरो-शोरो से चल रहा है। लेकिन, अगर आप ऑनलाइन कुछ खरीदारी के लिए किसी वेबसाइट्स को ओपेन कर रहे हैं तो सबसे पहले आपको उसकी सुरक्षा के बारे में जान लें कि वह वेबसाइट्स सुरक्षित है या नहीं। अक्सर देखा जाता है शॉपिंग वेबसाइट आपसे को भी समान को खरीदने से पहले आपको अपनी निजी जानकारी मांगती हैं। लेकिन, अगर आपके द्वारा दी गई जानकारी गलत हाथों में चली जाए इसका गलत इस्तेमाल हो सकता है। इसलिए पहले जांच लें कि वेबसाइट सुरक्षित है या नहीं। इसके लिए सबसे आसान तरीका है कि पहले वेबसाइट का यूआरएल चेक करें। जो कि https से शुरू होना चाहिए। यदि वेबसाइट के यूआरएल में https दिया गया है तो वह सुरक्षित है। यदि ऐसा नहीं है तो आपकी जानकारियां आसानी से हैक की जा सकती हैं। इसे भी देखें: असुस Zenfone 4 Selfie और Zenfone 4 Selfie Pro भारत में लॉन्च, जानें कीमत, स्पे​सिफिकेशन और फीचर्स

2. अक्सर देखा जाता है कि कुछ अजीब या अटपटे यूआरएल वेबसाइट में होते हैं। लेकिन, यह अटपटे यूआरएल को हो सकता है कि आपके सिस्टम को हैक करने का एक तरीका हो। इससे बचने के लिए कभी भी अजीब दिखने वाले यूआरएल को ओपन न करें। इसके अलावा आप यूआएल को ठीक से चेक कर लें कि वह आपके लिए असुरक्षित तो नहीं है। इससे बचने के लिए हमेशा इस बात का ध्यान दें जो वेबासाइट आप ओपन कर रहे हैं उसके अंत में .edu, net., com लिखा हो अगर ऐसा नहीं है या इनकी जगह दो अक्षर लिखें हैं तो इससे पता चल जाएगा कि वह किस देश की साइट है। वहीं आपको यूआरएल की शुरूआत में दिए गए www पर भी नजर रखनी होगी क्योंकि www कंपनी के नाम को बताती है और सही वेबसाइट है। वहीं यदि आपको किसी वेबसाइट में www की जगह सिर्फ कंपनी का नाम लिखा हुआ है ​तो वह हैकर्स की साइट हो सकती है। तो गलती से भी उस साइट पर क्लिक न करें। इसे भी देखें: OLED: क्या आप जानते हैं कि आखिर क्या होती है OLED, और यह LCD से कितनी अलग है?

3. कई बार देखा जाता है कि कुछ वेबसाइट अपने कंटेंट के माध्यम से लोगों को आकर्षित करती हैं ताकि उन साइट्स पर क्लिक करते ही वह उन्हें हैक कर लें। लेकिन, जब भी आपको ऐसा दिखे तो तुरंत इसे बंद कर दें। हो सकता है कि आपने जिस वेबसाइट पर क्लिक किया है वह आपके सिस्टम को हैक करे लें।

4. अगर आप गलती से ऐसी साइट को ओपेन कर लेते हैं,जिसमें कि मैलवेयर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल है तो वह आपकी सारी जानकारी उस व्यक्ति तक पहुंचा देता है, जिसने उसे इंस्टॉल किया है। हैकर्स द्वारा किसी की भी जानकारी को हैक करने के लिए मैलवेयर का काफी उपयोग किया जाता है। इसलिए आप केवल ऐसे ही लिंक या साइट पर क्लिक करें जो जिस पर आपको विश्वास है। किसी भी अंजान या संदिग्ध ई-मेल आदि पर क्लिक न करें। इसके लिए सबसे बेहतर तरीका है कि आप आपने डेस्कटॉप या लैपटॉप में किस अच्छे एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करें ताकि साइट से मैलवेयर को ब्लॉक कर सकें। इसे भी देखें: Spice V801 स्मार्टफोन भारत में हुआ लॉन्च, जानें कीमत, स्पेसिफिकेश और फीचर्स

5. आज कल कई वेबसाइट्स बिजनेस के उद्देश्य से अपने नंबर्स को बढ़ाने के लिए ऐसे न्यूज या इवेंट को सोशल साइट्स जैसे फेसबुक या ट्विटर आदि पर डालते हैं जिनकी हेडिंग तो रोचक होती है किंतु ओपेन करने पर उसमें ऐसा कुछ नहीं होता जो आप पढ़ना या जानना चाहते हैं। इसे क्लिकबेट स्कैम ही कहा जाता है और इस प्रकार के क्लिकबेट आपका समय खराब करने के अलावा गलत जानकारियां भी परोसते हैं। क्लिकबेट स्कैम में एक्सक्लूसिव, शॉकिंग और सेंसेशनल जैसे शब्दों का उपयोग किया जाता है। जिन पर आप अक्सर न चाहते हुए भी एक बार क्लिक कर ही देते हैं कि शायद इसमें कुछ रोचक पढ़ने या जानने को मिले। इस प्रकार की क्लिकबेट साइट से बचने के लिए आप उन्हें रीमूव या बैन कर सकते हैं।

  • Published Date: September 14, 2017 5:02 PM IST