comscore हैकर्स के दावे को आरोग्य सेतू (Aarogya Setu) ने किया खारिज, कहा - पूरी तरह सुरक्षित है डाटा और एप | BGR India Hindi
News

हैकर्स के दावे को आरोग्य सेतू (Aarogya Setu) ने किया खारिज, कहा - पूरी तरह सुरक्षित है डाटा और एप

हैकर और साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ एल्लोट एल्ड्रसन ने मंगलवार को राहुल गांदी का समर्थन करते हुए दावा किया था कि एप में सुरक्षा को लेकर मसले पाए गए हैं और नौ करोड़ भारतीयों की निजता को खतरा है।  इस दावे को खारिज करते हुए, सरकार ने कहा कि इस एथिकल हैकर ने यह साबित नहीं किया है कि किसी उपयोगकर्ता की कोई भी निजी जानकारी खतरे में है।

Aarogya Setu app

केंद्र सरकार की कोरोनावायरस ट्रेकिंग एप आरोग्य सेतू (Aarogya Setu) को लेकर हैकर्स के दावे को खारिज किया है। आरोग्य सेतू एप ने अपने ट्विटर अकाउंट पर बयान जारी कर कहा है कि आरोग्य सेतु एप के यूजर्स का डाटा और एप पूरी तरह सुरक्षित है। एप से किसी तरह डाटा या सुरक्षा उल्लंघन का मामला नहीं पाया गया है। यह मामला एथिकल हैकर द्वारा आरोग्य सेतू ऐप की सिक्योरिटी और यूजर्स के डाटा को खतरा होने की चेतावनी के बाद प्रकाश में आया था। Also Read - Tecno Spark 5 Air स्मार्टफोन में होगी 7 इंच की स्क्रीन, कंपनी ने रिवील किए फीचर्स

आरोग्य सेतू सरकारी मोबाइल एप है जो कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति को दूसरे लोगों से दूरी बनाए रहने में मदद करती है। इस एप के जरिए यूजर्स अपने आसपास कोरोनासंक्रमित लोगों की संख्या भी जान सकते हैं। सरकार का कहना है कि इस एप के जरिए कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। Also Read - Nokia 9.3 5G स्मार्टफोन में हो सकता अंडर-डिस्प्ले सेल्फी कैमरा, देखें फोटोज

फ्रांस के एक हैकर और साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ एल्लोट एल्ड्रसन ने मंगलवार को राहुल गांदी का समर्थन करते हुए दावा किया था कि एप में सुरक्षा को लेकर मसले पाए गए हैं और नौ करोड़ भारतीयों की निजता को खतरा है।  इस दावे को खारिज करते हुए, सरकार ने कहा कि इस एथिकल हैकर ने यह साबित नहीं किया है कि किसी उपयोगकर्ता की कोई भी निजी जानकारी खतरे में है।

सरकार ने ऐप के ट्वीटर हैंडल के जरिए कहा, ” हम लगातार अपनी प्रणाली की जांच कर रहे हैं और उसका उन्नयन कर रहे हैं। टीम आरोग्य सेतु सबको आश्वस्त करती है कि कोई भी डेटा या सुरक्षा उल्लंघन मामला नहीं पाया गया है।” ट्वीट में हैकर की ओर से उठाए गए मसलों का बिंदुवार स्पष्टीकरण दिया है। उसने कहा, ” हमने हैकर से चर्चा की और निम्नलिखित के बारे में अवगत कराया गया… यह कुछ मौको पर उपयोगकर्ता के स्थान का पता लगाती है।”

आरोग्य सेतु ने कहा कि इसे इस तरह से डिजाइन किया गया है और निजता नीति में यह स्पष्ट रूप से बताया गया है। आरोग्य सेतु ने कहा कि ऐप में पंजीकरण के समय और स्वयं मूल्यांकन के वक्त जब उपयोगकर्ता ऐप के जरिए अपने स्वैच्छिक रूप से संपर्कों का पता लगाने वाले डेटा जमा करता है या कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद संपर्क में आए लोगों का पता लगाता है तो यह उपयोगकर्ता के स्थान का पता लगाता है और उसे सुरक्षित सर्वर में, इन्क्रिप्ट (कूट) और अनाम तरीके से रखता है।

उपयोगकर्ता द्वारा होम स्क्रीन पर प्रदर्शित कोविड-19 के आंकड़ों को एक स्क्रिप्ट का इस्तेमाल करके रेडियस और अक्षांश देशांतर में बदलाव करके हासिल करने के मसले पर आरोग्य सेतु ने कहा कि यह सभी जानकारी पहले से ही सभी स्थानों के लिए सार्वजनिक है और इसलिए इसमें कोई निजी या संवेदनशील डेटा नहीं होता है।

आरोग्य सेतु ने कहा, ” हमारे साथ शामिल होने के लिए हम एथिकल हैकर का आभार व्यक्त करते हैं। किसी भी भेद्दता की पहचान कर हमें तत्काल सूचित करने के लिए उपयोगकर्ताओं को प्रोत्साहित करते हैं… ” आरोग्य सेतु के स्पष्टीकरण पर एल्ड्रसन ने ट्वीट किया, मैं आपके पास कल आऊंगा।”

(इनपुट – पीटीआई से)

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: May 6, 2020 1:45 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers