comscore एप्पल ने चीन के ऐप स्टोर से हटाया कुरान मजीद ऐप, जानें वजह
News

एप्पल ने चीन के ऐप स्टोर से हटाया कुरान मजीद ऐप, जानें वजह

ऐप के डेवलपर पाकिस्तान डेटा मैनेजमेंट सर्विसेज के मुताबिक कुरान मजीद मुफ्त में उपलब्ध है और दुनिया भर में 25 मिलियन यूजर्स द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। BBC की रिपोर्ट के अनुसार, एप्पल ने इस ऐप को चीनी सरकार के अनुरोध पर हटाया है।

Apple-China-Quran-app

एप्पल ने चीनी मार्केट में अपने ऐप स्टोर से Quran Majeed ऐप को हटा दिया है। यह कुरान पढ़ने और सुनने के लिए एक पॉपुलर ऐप है। ऐप के डेवलपर पाकिस्तान डेटा मैनेजमेंट सर्विसेज के मुताबिक कुरान मजीद मुफ्त में उपलब्ध है और दुनिया भर में 25 मिलियन यूजर्स द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। BBC की रिपोर्ट के अनुसार, एप्पल ने इस ऐप को चीनी सरकार के अनुरोध पर हटाया है। Also Read - ग्लोबल स्मार्टवॉच मार्केट में भारतीय ब्रांड्स ने कमाया नाम, Q3 2021 में मिली दोगुनी बढ़त

BBC से बात करते हुए ऐप डेवलपर ने इस ऐप के हटाने का कारण बताया। इन्होंने कहा, “एप्पल के अनुसार, हमारे ऐप कुरान मजीद को चाइना ऐप स्टोर से इसलिए हटाया गया है क्योंकि इसमें ऐसी सामग्री शामिल है जो अवैध है।” डेवलपर का कहना है कि वह अब चीन के साइबरस्पेस प्रशासन के साथ इस मुद्दे को हल करने का प्रयास कर रहा है। Also Read - Pegasus को लेकर सख्त हुआ Apple, NSO ग्रुप पर किया केस

एप्पल की तरफ से अभी इस मामले पर कुछ नहीं कहा गया है, मगर यह मामला विदेश में मानवाधिकारों पर एप्पल के आधिकारिक रुख के अंतर्गत आता है। इसके मुताबिक कंपनी कहती है: Also Read - 12MP+12MP बैक और 12MP फ्रंट कैमरा वाले iPhone 12 Mini पर फिर आया डिस्काउंट, Flipkart Sale में है बढ़िया ऑफर

हमें स्थानीय कानूनों का पालन करने की आवश्यकता होती है, और कभी-कभी ऐसे जटिल मुद्दे होते हैं जिनके बारे में हम सरकारों और अन्य हितधारकों से सही रास्ते पर असहमत हो सकते हैं। संवाद के साथ, और जुड़ाव की शक्ति में विश्वास के साथ, हम उस समाधान को खोजने का प्रयास करते हैं जो हमारे उपयोगकर्ताओं की सबसे अच्छी सेवा करता है-उनकी गोपनीयता, स्वयं को व्यक्त करने की उनकी क्षमता, और विश्वसनीय जानकारी और सहायक तकनीक तक उनकी पहुंच।

इससे पहले एप्पल ने चीन में अपने ऐप स्टोर से सभी VPN ऐप्स को हटा दिया था। ये ऐप्स चीनी उपयोगकर्ताओं को सेंसरशिप से बचने की अनुमति देते हैं। यह उन ऐप्स से भी बचता है, जो तियानमेन स्क्वायर, दलाई लामा, या ताइवान और तिब्बती स्वतंत्रता का उल्लेख करते हैं। चीनी कानूनों की वजह से एप्पल को बार-बार इस तरह के केस संभालने पड़ रहे हैं। इससे पहले माइक्रोसॉफ्ट ने लिंक्डइन के स्थानीय चीनी संस्करण को बंद करने का फैसला किया था। इसने कहा कि चीनी सरकार की मांगों का पालन करना मुश्किल होता जा रहा है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: October 17, 2021 5:29 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers