comscore यूरोपियन यूनियन का नया कानून WhatsApp, iMessage यूजर्स की प्राइवेसी के लिए खतरा!
News

यूरोपियन यूनियन का नया कानून WhatsApp, iMessage यूजर्स की प्राइवेसी के लिए खतरा!

यह नियम भले ही एंड यूजर्स और छोटे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स को फायदा पहुंचाएगा लेकिन इसकी वजह से यूजर प्राइवेसी के खतरे सामने आ सकते हैं। Facebook Messanger, iMessage और WhatsApp तीनों बड़े मैसेजिंग प्लेटफॉर्म अलग-अलग तरह के एनक्रिप्शन फीचर का इस्तेमाल करते हैं।

Messaging

यूरोपियन यूनियन (EU) में एक नए कानून पास करने पर सहमति बनी है, जिसमें बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों की मार्केट को लिमिट की जा सकती है। यूरोपियन यूनियन डिजिटल मार्केट एक्ट (DMA) को पास करने के लिए सहमत हो गई है, जिसमें बड़ी और लोकप्रिय मैसेजिंग सर्विसेज जैसे कि WhatsApp, Facebook Messanger, iMessage आदि को छोटे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स को सहयोग करने के लिए कहा जाएगा। Also Read - WhatsApp पर आया Stranger Things का स्टिकर पैक, ऐसे करें डाउनलोड

यूरोपियन यूनियन में 8 घंटे तक चले बातचीत में इस बात की सहमति बनी है कि बड़ी मैसेजिंग सर्विसेज जैसे कि WhatsApp, Facebook Messanger, iMessage आदि को छोटे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स के आग्रह पर उनके लिए ओपन करना होगा। जिसकी वजह से इन छोटे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के यूजर्स इन प्लेटफॉर्म्स के बीच मैसेज एक्सचेंज कर सकेंगे। साथ ही, इन मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स के बीच वीडियो कॉलिंग और फाइल शेयर भी किया जा सकेगा। Also Read - WhatsApp में आएगा एक कमाल का फीचर, जानें कैसे आप Disappearing Messages को भी कर पाएंगे स्टोर

EU के स्टेटमेंट के मुताबिक, यूनियन लोकप्रिय मैसेजिंग प्लेटफॉर्म को अपने जैसे छोटे प्लेटफॉर्म्स की सहायता करने के लिए कह सकती है। हालांकि, यह साफ नहीं है कि यूरोपियन यूनियन का यह नया नियम बड़े मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स को छोटे प्लेटफॉर्म्स के साथ काम करने के लिए जोर डाल सकेगा या नहीं। Also Read - How to Pin WhatsApp Chat: चैट को पिन करना है बहुत आसान, बस फॉलो करें ये स्टेप्स

यूजर्स की प्राइवेसी के लिए खतरा

The Verge की रिपोर्ट के मुताबिक, यह नियम बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियां जैसे कि Apple और Meta (पहले Facebook) के मैसेजिंग इकोसिस्टम को प्रभावित कर सकती है। यह नियम भले ही एंड यूजर्स और छोटे मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स को फायदा पहुंचाएगा लेकिन इसकी वजह से यूजर प्राइवेसी के खतरे सामने आ सकते हैं। Facebook Messanger, iMessage और WhatsApp तीनों बड़े मैसेजिंग प्लेटफॉर्म अलग-अलग तरह के एनक्रिप्शन फीचर का इस्तेमाल करते हैं। छोटे प्लेटफॉर्म्स को सहयोग करने की वजह से इन मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स के एनक्रिप्शन फीचर प्रभावित हो सकते हैं, जिसका असर यूजर प्राइवेसी पर पड़ सकता है।

नियम न मानने पर लगेगा जुर्माना

जो कंपनी यूरोपियन यूनियन के इस नए नियम का पालन नहीं करेगी उन्हें वर्ल्डवाइड टर्नओवर का 10 प्रतिशत जुर्माना देना होगा। अगर, हर वित्त वर्ष में कंपनियां इस नियम को तोड़ेंगी तो उन्हें 20 प्रतिशत तक जुर्माना देना पड़ सकता है। अगर, बड़ी कंपनियां लगातार नियम तोड़ेंगी तो यूरोपीयन यूनियन इन कंपनियों को छोटी कंपनियों को अधिग्रहित करने से बैन कर देगी। हालांकि, यूरोपियन यूनियन इसके फाइनल एग्रीमेंट के लिए कंपनियों को एक डेडलाइन देगी।

Apple के प्रवक्ता ने The Verge को दिए गए स्टेटमेंट में बतााय कि DMA के प्रोविजन्स की वजह से यूजर्स के लिए बेवजह की प्राइवेसी और सिक्युरिटी खतरों को बुलावा देगा। कंपनी यूरोपियन यूनियन के स्टेक होल्डर्स के साथ मिलकर यूजर प्राइवेसी के लिए होने वाले खतरे को सामने रखेगी। यूरोपियन यूनियन का यह नया DMA नियम अभी पास नहीं हुआ है। इस साल अक्टूबर तक लागू किया जा सकता है। स्टेक होल्डर्स के आग्रह और सुझाव के आधार पर इसमें बदलाव भी किया जा सकता है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: March 29, 2022 10:33 AM IST



new arrivals in india