comscore
News

Hindi Diwas 2018: हिंदी हैं हम और एडवांस भी, ऑनलाइन परचेजिंग पावर भी है स्ट्रॉन्ग

भारत में एंड्रॉइड के बाद Indus OS दूसरा सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला लैंग्वेज ऑपरेटिंग सिस्टम है।

hindi divas 2018

Image Credit: Indus os


भारत दुनिया में ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा रीजनल (क्षेत्रीय) लैंग्वेज बोली जाती हैं। हालांकि इसके बावजूद देश में हिंदी भाषा ने सभी लोगों को एक दूसरे से जोड़ रखा है। भले ही यह राष्ट्रभाषा नहीं है लेकिन इसे भारत में राजभाषा का दर्जा प्राप्त है। आज हिंदी दिवस है, जो हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। भारत में हिंदी भाषा को सबसे ज्यादा बोला और लिखा जाता है। इस भाषा के असर को आज दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनियों ने भी अपना लिया है और वह अपनी सर्विस को हिंदी में भी लॉन्च कर रहे हैं। हम आपको यहां ऐसे ही कुछ उदाहरण बता रहे हैं…

हिंदी ऑपरेटिंग सिस्टम: Indus OS

Indus ऑपरेटिंग सिस्टम को सबसे पहले मई 2015 में लॉन्च किया गया था। यह एक हिंदी (दूसरी रीजनल लैंग्वेज भी शामिल) ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो अन्य रीजनल लैंग्वेज को भी सपोर्ट करता है। भारत में एंड्रॉइड के बाद यह अभी दूसरा सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है। इंडस OS ने भारत में माइक्रोसॉफ्ट विंडो और एप्पल iOS को पछाड़कर दूसरा स्थान हासिल किया है। मुंबई हेडक्वॉर्टर वाली Indus OS की स्थापना सितंबर 2013 में IIT-B के स्टूडेंट्स अकाश डोंगरा, राकेश देशमुख और सुधीर बंगारबंदी ने की थी। इस OS को खासतौर पर नॉन इंग्लिश स्पीकर मोबाइल फोन यूजर्स के लिए बनाया गया था। इस ओसएस का मकसद भारत में रहने वाले लोगों को अपनी खुद की लैंग्वेज में स्मार्टफोन का एक्सपीरियंस देना है। यह कई रीजनल लैंग्वेज को भी सपोर्ट करता है।

अमेजन हिंदी

अमेरिका की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन भारत में भी अमेजन इंडिया के नाम से अपनी सर्विस देती है। अमेजन इंडिया की दूसरी सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है। अमेजन ने लोगों से उनकी लोकल लैंग्वेज में कनेक्ट करने के लिए हाल में अमेजन हिंदी को शुरू किया है। इस सर्विस के जरिए आप अमेजन प्लेटफॉर्म पर हिंदी में भी शॉपिंग एक्सपीरियंस का मजा ले सकते हैं। यहां आपको प्रॉडक्ट डिस्क्रिप्शन और रिव्यू भी हिंदी में मिलेंगे। कंपनी का कहना है कि अगले 10 करोड़ यूजर्स को टारगेट करते हुए कंपनी ने अमेजन हिंदी सर्विस को शुरू किया है।

गूगल

दिग्गज सर्च इंजन कंपनी गूगल ने भी हिंदी भाषा की अहमियत को समझा है और उसने हिंदी कीबोर्ड ऐप को लॉन्च किया था। कंपनी द्वारा लाॅन्च किए गए इस कीबोर्ड ऐप को इंडिक कीबोर्ड का नाम दिया गया है। गूगल इंडिक कीबोर्ड ऐप गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है जिसे फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है। खास बात यह है कि इस कीबोर्ड में हिंदी समेत 10 रीजनल भाषाएं दी गई हैं। एप्पल, सैमसंग समेत कई कंपनियां अपने मोबाइल फोन यूजर्स को हिंदी में टाइपिंग करने का ऑप्शन देती है।

नॉन इंग्लिश यूजर्स की परचेजिंग पावर है स्ट्रॉन्ग

Reverie लैंग्वेज टेक्नोलॉजी ने डिजिटल लैंग्वेज रिपोर्ट निकाली है। रिपोर्ट से पता चलता है कि इंडियन लैंग्वेज में हिंदी का यूजर बेस सबसे ज्यादा है। हालांकि रिपोर्ट के मुताबिक मराठी, बंगाली, तेलगु और गुजराती यूजर्स औसतन हिंदी स्पीकिंग इंटरनेट यूजर्स के मुकाबले ज्यादा इंटरनेट पर इंगेज रहते हैं। इसके अलावा रिपोर्ट यह भी बताती है कि 22% इंडियन लैंग्वेज यूजर्स के पास हाई एंड स्मार्टफोन हैं जिसकी कीमत 11,000 रुपये से ज्यादा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह यूजर्स टॉप 25 ऐप्स में से 4 ऐप्स अमेजन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम और OLX का इस्तेमाल करते हैं। इससे पता चलता है कि नॉन इंग्लिश यूजर्स की परचेजिंग पावर भी स्ट्रॉन्ग होती है। इन चीजों से पता चलता है कि हिंदी ओएस में मोबाइल ऑपरेट करने वाले लोगों की भी परचेजिंग पावर स्ट्रॉन्ग होती है।

  • Published Date: September 14, 2018 4:44 PM IST