comscore PhoneSpy नाम का खतरनाक वायरस चुरा रहा है आपके फोन का डेटा, जानें क्या करें?
News

PhoneSpy नाम का खतरनाक वायरस चुरा रहा है आपके फोन का डेटा, जानें क्या करें?

Google Play Store से हाल ही में 7 मेलवेयर से प्रभावित ऐप्स को हटाए गए हैं। अब एक और नई रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें PhoneSpy नाम के मेलवेयर के बारे में जानकारी सामने आई है। Android डिवाइसेज को इस मेलवेयर के जरिए निशाना बनाया जा रहा है। दरअसल, 23 ऐप्स में इस खतरनाक मेलवेयर या वायरस को पाया गया है। हैकर्स इस मेलवेयर के जरिए यूजर के स्मार्टफोन की जासूसी करते हैं और निजी जानकारियों को चुराते हैं।

most common password

Google Play Store से हाल ही में 7 मेलवेयर से प्रभावित ऐप्स को हटाए गए हैं। अब एक और नई रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें PhoneSpy नाम के मेलवेयर के बारे में जानकारी सामने आई है। Android डिवाइसेज को इस मेलवेयर के जरिए निशाना बनाया जा रहा है। दरअसल, 23 ऐप्स में इस खतरनाक मेलवेयर या वायरस को पाया गया है। हैकर्स इस मेलवेयर के जरिए यूजर के स्मार्टफोन की जासूसी करते हैं और निजी जानकारियों को चुराते हैं। सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, इस मेलवेयर का प्रभाव अमेरिकी और कोरियन बाजार में देखने को मिल रहा है। Also Read - खतरे की घंटी! आपके फोन से तुरंत डिलीट करें ये 7 लोकप्रिय ऐप्स, Google Play Store से हुए रिमूव

क्या करता है PhoneSpy मेलवेयर?

PhoneSpy मेलवेयर खास तौर पर यूजर के स्मार्टफोन में मौजूद महत्वपूर्ण डेटा को चुराते हैं। यूजर के निजी डेटा में मैसेज, कॉल और डिवाइस लोकेशन आदि की जानकारियां आदि शामिल हैं। यह मेलवेयर 23 ऐप्स के जरिए यूजर के स्मार्टफोन के माइक्रोफोन का एक्सेस इनेबल करके ऑडियो और वीडियो रिकॉर्डिंग के जरिए डेटा ट्रांसफर करते हैं। यही नहीं, यह मेलवेयर इतना खतरनाक है कि यह डिवाइस का IMEI नंबर, मॉडल नंबर और ब्रांड की जानकारी भी चुरा लेता है। Also Read - Google ने बैन किए 136 खतरनाक ऐप्स, तुरंत करें डिलीट नहीं तो बैंक अकाउंट हो जाएगा खाली!

Zimperium नाम के मोबाइल सिक्युरिटी एजेंसी ने रिपोर्ट किया है कि इस मेलवेयर से प्रभावित ऐप्स यूजर द्वारा फोन में इंस्टॉल ऐप को अनइंस्टॉल कर देता है। यही नहीं, यूजर द्वारा इंस्टॉल किए गए सिक्योरिटी ऐप्स को भी यह अनइंस्टॉल कर सकता है। इसके अलावा यह डिवाइस की सटीक लोकेशन को भी रियल-टाइम में ट्रांसफर करता है। यही नहीं, इस मेलवेयर से प्रभावित ये 23 ऐप्स यूजर के सोशल मीडिया ऐप्स- Facebook, Instagram, Twitter, Google और Kakao Talk का भी इस्तेमाल कर लेते हैं। Also Read - Pegasus spyware ने आपके फोन पर अटैक किया है या नहीं, इस फ्री टूल से करें चेक

आपको किन बातों का रखना है ध्यान?

किसी भी ऐप को Google Play Store से डाउनलोड करने से पहले यह चेक कर लें कि ऐप गूगल प्ले स्टोर द्वारा वेरिफाइड है या नहीं। साथ ही, किसी भी थर्ड पार्टी सोर्स के जरिए ऐप को अपने फोन में इंस्टॉल न करें। यूजर को इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि SMS या ई-मेल के जरिए भेजे गए लिंक या फाइल से किसी ऐप को इंस्टॉल न करें। साथ ही, WhatsApp या अन्य किसी प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करके भेजे गए लिंक पर क्लिक करके ऐप कभी इंस्टॉल न करें।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: November 22, 2021 8:41 AM IST



new arrivals in india

Best Sellers