comscore Uber ने उठाया बड़ा कदम, अब एक क्लिक पर मिलेगी पुलिस की मदद
News

Uber ने उठाया बड़ा कदम, अब एक क्लिक पर मिलेगी पुलिस की मदद

उबर ने राइडर्स की सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस के साथ पार्टनरशिप की है। इस पार्टनरशिप के तहत उबर राइडर्स को इमरजेंसी के वक्त दिल्ली पुलिस की मदद मिलेगी। जानिए कैसे काम करेगी उबर की नई सेवा।

Uber-Pixabay-stock-main

कैब सेवा प्रदान करने वाले एप्स पर लोगों की निर्भरता बढ़ गई है। ऐसे में पुलिस के साथ साथ ऐसे सेवा प्रदाताओं की भी जिम्मेदारी बनती है कि वह जनता को सुरक्षा प्रदान करें। कैब सेवा मुहैया करने वाले प्लेटफॉर्म उबर ने इस सिलसिले में दिल्ली पुलिस के साथ हाथ मिलाया है, जिससे यात्रियों को इमरजेंसी के वक्त दिल्ली पुलिस की मदद पहुंचाई जा सके। नए समझौते के तहत उबर एप को दिल्ली पुलिस के हिम्मत प्लस एप के जोड़ा गया है, जिसकी मदद से उबर राइडर की रियल टाइम लोकेशन दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम और हेडक्वॉटर तक पहुंच जाएगी। जिसके बाद नजदीकी पुलिस स्टेशन को इसकी जानकारी दे दी जाएगी, जो यात्री तक मदद पहुंचाने का काम करेगी।


इस सुविधा की मदद से यूजर्स सीधे दिल्ली पुलिस को रिपोर्ट भी कर सकते हैं। यदि कोई उबर यूजर्स कोई राइड बुक करता है और रास्ते में उसे कुछ बगबड़ लगता है तो वह दिल्ली पुलिस के साथ अपनी लाइव लोकेशन शेयर कर सकता/सकती है। इसके लिए उबर एप में इमरजेंसी बटन दी गई है।

कैसे काम करता है Uber का ये फीचर

  • यदि कोई उबर राइडर राइड के दौरान किसी मुसीबत में फंसता है तो उसे सेफ्टी टूलकिट में पुलिस के संपर्क करने का इमरजेंसी फीचर मिलता है।
  • जैसे ही इमरजेंसी रिपोर्ट की जाती है, उबर सेफ्टी रिस्पॉन्स टीम यूजर को कॉल करती है और उससे पूछती है कि क्या वह अपनी रियर टाइम लोकेशन और अन्य जानकारी दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम से शेयर करना चाहते हैं।
  • यदि यूजर इसकी पुष्टि करता है तो उसका नाम, कॉन्टैक्स नंबर, कार की डिटेल्स, ड्राइवर की डिटेल्स और लाइव लोकेशन के साथ इमरजेंसी कॉन्टैक्ट नंबर दिल्ली पुलिस से शेयर कर दिया जाता है। लाइव लिंक में मौजूदा जीपीएस लोकेशन मौजूद होती है।
  • इसके बाद उपर की सेफ्टी रिस्पॉन्स टीम लाइव लोकेशन लिंक को हिम्मत एप में फीड कर देती है।

इस नए फीचर को शुरू करने के लिए कंपनी ने 1000 हिम्मत क्यूआर वेरिफिकेशन कार्ड अपने ड्राइवर पार्टनर को बांटे हैं। इस क्यूआर कार्ड को स्कैन करके राइडर को कैब ड्राइवर की जानकारी और व्हीकल की जानकारी हिम्मत प्लस एप पर मिल जाती है। उबर ने इस फीचर को शुरू करते वक्त जानकारी दी कि जल्द ही ये फीचर अन्य वाहनों के लिए भी शुरू किया जाएगा। उबर ने बताया कि उन्होंने अपना इमरजेंसी रिस्पॉन्स नंबर 100 से 112 कर दिया है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें।

  • Published Date: February 18, 2020 7:45 PM IST
  • Updated Date: February 18, 2020 8:24 PM IST