comscore WhatsApp end-to-end encryption क्या है और कैसे करता है काम? जानें सबकुछ
News

WhatsApp end-to-end encryption क्या है और कैसे करता है काम? जानें सबकुछ

WhatsApp end to end encryption explained know how it works and protect your personal chats: WhatsApp end-t0-end encryption फीचर पर्सनल और बिजनेस दोनों तरह के कम्युनिकेशन के लिए काम करता है। अगर आप किसी के साथ इस प्लेटफॉर्म के जरिए कम्युनिकेट करते हैं तो आपकी निजी चैट पर की गई बातचीत सुरक्षित रहती है।

Instagram Reels on WhatsApp support

ग्लोबली सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp को यूजर्स उसके end-to-end encryption फीचर की वजह से पसंद करते हैं। सोशल नेटवर्किंग साइट्स के लिए नए सोशल मीडिया इंटरमीडियरी नियमों के पालन की समयसीमा आज यानी 26 मई 2021 को खत्म हो रही है। WhatsApp की पैरेंट कंपनी Facebook इसके विरुद्ध दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। कंपनी का कहना है कि सरकार द्वारा बनाए गए इस नियम में ट्रेसिबिलिटी का प्रावधान है, जो कि असंवैधानिक है। Also Read - WhatsApp पर फिंगरप्रिंट लॉक लगाकर अपनी चैट को करें सिक्योर, जानें कैसे

Facebook ने WhatsApp के end-t0-end encryption फीचर का हवाला देते हुए कहा, अगर ट्रेसिबिलिटी के प्रावधान को मान लिया जाएगा तो इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप का end-to-end encryption प्रभावित होगा। इसकी वजह से इस इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप पर किया गया कम्युनिकेशन सार्वजनिक हो सकता है और यूजर्स की निजता को प्रभावित करेगा। कंपनी का कहना है, ट्रेसिबिलिटी को असंवैधानिक घोषित किया जाए और इसके लागू करने पर रोक लगाई जाए। साथ ही सहयोग ना करने पर उसके कर्मचारियों को आपराधिक देयता से बचाया जाए। Also Read - WhatsApp से भी बुक कर पाएंगे Uber राइड, बस करना होगा एक मैसेज

आइए, जानते हैं WhatsApp के end-to-end encryption फीचर के बारे में। किस तरह से यह यूजर के निजता के मौलिक अधिकार की रक्षा करता है? Also Read - WhatsApp ने बैन किए 20 लाख से ज्यादा भारतीय अकाउंट्स, आखिर क्या है वजह

क्या है WhatsApp end-to-end encryption?

WhatsApp end-t0-end encryption फीचर पर्सनल और बिजनेस दोनों तरह के कम्युनिकेशन के लिए काम करता है। अगर आप किसी के साथ इस प्लेटफॉर्म के जरिए कम्युनिकेट करते हैं तो आपकी निजी चैट पर की गई बातचीत सुरक्षित रहती है। End-to-end encryption की वजह से आपकी बातचीत को न तो WhatsApp और न ही कोई और देख सकता है। यह फीचर आपकी बातचीत पर एक सिक्योर लॉक लगा देता है। इसे अनलॉक करने के लिए एक स्पेशल चाभी (Key) की जरूरत होती है। WhatsApp के मुताबिक, यह सब प्रक्रिया ऑटोमैटिक पूरी होती है।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का कहना है कि WhatsApp के लिए यूजर की सुरक्षा सर्वोपरि है। WhatsApp पर किया गया कॉल या फिर भेजा गया मैसेज, फोटोज, वीडियोज आदि पूरी तरह से सुरक्षित रहती है। पिछले कुछ सालों में कई तरह के डेटा लीक की घटनाएं सामने आई हैं, जिनमें यूजर्स की निजी बातचीत भी लीक हुई है। WhatsApp अपने प्लेटफॉर्म पर end-to-end encryption के लिए Signal की तकनीक का इस्तेमाल करता है। बता दें कि Signal का भी एक इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप है, जो इस साल की शुरुआती में WhatsApp Privacy Policy आने के बाद काफी लोकप्रिय हुआ था।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 26, 2021 2:44 PM IST



new arrivals in india

Best Sellers