comscore 20 Jitendra Electric Scooters में लगी आग, 3 हफ्तों में तीसरी बार हुई दुर्घटना
News

इलेक्ट्रिक स्कूटर ने फिर डराया! अब Jitendra EV के 20 Electric Scooters में लगी आग

पिछले तीन हफ्तों में इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में आग लगने की यह पांचवीं घटना है। इससे पहले Ola S1 Pro और ओकिनावा के इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लगने के मामले सामने आए हैं।

Jitendra Electric Scooter

Recently a full bunch of electric scooters caught fire inside a trailer. Credit: Twitter



इन दिनों देश में इलेक्ट्रिक स्कूटर्स (Electric Scooters) में आग लगने के कई मामले सामने आ रहे हैं। ताजा दुर्घटना में, जितेंद्र ईवी (Jitendra EV) के 20 नए इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में आग लग गई और यह घटना कैमरे में कैद हो गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन स्कूटर्स को जितेंद्र ईवी की नासिक फैक्ट्री से एक कंटेनर में बेंगलुरु ले जाया जा रहा था। Also Read - Auto Expo में एंट्री करेगा तगड़े फीचर्स वाला Electric Scooter, मिलेगा रिमूवेबल बैटरी पैक

कंटेनर में कुल 40 Jitendra Electric Scooter थे और इनमें से 20 स्कूटर्स में आग लग गई। यह घटना 9 अप्रैल, 2022 की है। हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। Also Read - Suzuki ने Pakistan में बंद करेगी प्रोडक्शन, दूसरी कंपनियां भी नहीं बना रही गाड़ियां; जानें वजह

इस मामले में जितेंद्र ईवी के स्पोक्सपर्सन ने कहा, “9 अप्रैल को हमारी फैक्ट्री के गेट के पास स्कूटर ट्रांसपोर्ट कंटेनर में दुर्घटना हुई। हमारी टीम ने स्थिति पर तुरंत काबू पा लिया। हम दुर्घटना की वजह की जांच कर रहे हैं।” Also Read - Revamp Buddie 25 इलेक्ट्रिक बाइक हुई लॉन्च, तस्वीरों में जानें कीमत, रेंज और टॉप स्पीड की डिटेल

3 हफ्तों में पांचवीं बार लगी इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में आग

पिछले तीन हफ्तों में इलेक्ट्रिक टू-वीलर में आग लगने की यह पांचवीं घटना है। इससे पहले 26 मार्च 2022 को, पुणे में एक Ola S1 Pro इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई। इसके बाद तमिलनाडु के वेल्लोर में एक ओकिनावा इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई। 28 मार्च, 2022 को, तमिलनाडु के त्रिची से ऐसी ही एक और घटना की जानकारी मिली। वहीं चौथी घटना 29 मार्च, 2022 को चेन्नई में हुई, जहां एक प्योर ईवी इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई।

क्या हो सकती है आग लगने की वजह

इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में आग लगने की बड़ी वजह थर्मल रनवे हो सकती है, जिसमें लिथियम-आयन बैटरी में शॉर्ट-सर्किट होने पर एक एक्सोथर्मिक रिएक्शन होता है। लिथियम आयन बैटरी में लगी आग को बुझाना मुश्किल साबित होता है। पानी के कॉन्टेक्ट में आने पर यह तुरंत हाइड्रोजन गैस और लिथियम-हाइड्रॉक्साइड बनाता है। इससे आग तेजी से फैलती है।

भारत सरकार ने दिए जांच के आदेश

भारत सरकार पहले ही इलेक्ट्रिक टू-वीलर्स में आग लगने की बढ़ती घटनाओं की जांच के आदेश दे चुकी है। इलेक्ट्रिक टू-वीलर में आग लगने मामलों के बढ़ने के साथ, हाल में एक दर्जन ब्रांड्स के प्रोडक्ट्स की क्वालिटी, बैटरी और बैटरी मैनेजिंग सिस्टम (बीएमएस) की क्वालिटी पर ध्यान दिया गया है।

  • Published Date: April 12, 2022 1:16 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.