comscore Mobile Gaming पर खूब पैसा खर्च कर रहे भारतीय, जानें क्यों बढ़ रहा देश में मोबाइल गेम्स का क्रेज
News

Mobile Gaming पर खूब पैसा खर्च कर रहे भारतीय, जानें क्यों बढ़ रहा देश में मोबाइल गेम्स का क्रेज

CyberMedia Research (CMR) ने बुधवार को एक रिपोर्ट में बताया कि महामारी के बाद भारत में Mobile Gaming 16 प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ रही है। खबर का कहना है कि यह अच्छी बढ़त है, जिसका क्रेडिट मिड और लो प्राइस टियर में ताकतवर स्मार्टफोन्स की मौजूदगी को जाता है।

Apex-Legends-Mobile-BGR (1)

पिछले महीने data.ai और इंटरनैशनल डेटा कॉरपोरेशन (IDC) ने बताया था कि गेमिंग बाजार की तुलना में Mobile Gaming 1.7 गुना तेजी से बढ़ रही है। इसके साथ ही यह अब समग्र गेमिंग बाजार का 61 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है। अब एक नई खबर आई है जो भारत की मोबाइल गेम इंडस्ट्री पर प्रकाश डालती है। Also Read - Mobile Gaming का जलवा देख PC और कंसोल के छूटे पसीने, लोकप्रियता और कमाई में मार रहे हैं बाजी

CyberMedia Research (CMR) ने बुधवार को एक रिपोर्ट में बताया कि महामारी के बाद भारत में Mobile Gaming 16 प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ रही है। खबर का कहना है कि यह अच्छी बढ़त है, जिसका क्रेडिट मिड और लो प्राइस टियर में ताकतवर स्मार्टफोन्स की मौजूदगी को जाता है। Also Read - PUBG के डेवलपर Krafton ने भारतीय स्पोर्ट्स गेम डेवलपर Nautilus Mobile में किया करोड़ों रुपये का निवेश

स्मार्टफोन बेहतर होने की वजह से बढ़ा है गेमिंग टाइम

CMR के इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप के हेड, प्रभु राम ने कहा, “हमारी गेमिंग इंटेलिजेंस हार्डकोर और उत्साही गेमिंग में इस स्पाइक का श्रेय मध्य और निचले मूल्य स्तरों में शक्तिशाली स्मार्टफोन को देती है।” Also Read - PUBG Mobile सीजन 3 की री-कैप वीडियो हुई रिलीज, देखें सीजन 3 की सभी जानकारी

राम ने इसके पीछे वैल्यू-फॉर-मनी स्मार्टफोन में पावरफुल प्रोसेसर वाले डिवाइस को क्रेडिट दिया। रिपोर्ट के मुताबिक, ताकतवर स्मार्टफोन्स ने कोविड के बाद हार्डकोर गेमर्स की संख्या को 40 प्रतिशत बढ़ा दिया है। CyberMedia ने इसी तरह की बढ़त कैजुअल गेमर्स की संख्या में भी देखी। मगर, इस दौरान हाइपर कैजुअल गेमर्स की संख्या 16 प्रतिशत घट गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पावरफुल प्रोसेसर के साथ गेमर्स एक स्मार्टफोन में बैटरी लाइफ, फास्ट गेम लोड टाइम और डिस्प्ले को तरजीह देते हैं।

भारतीय गेमर्स का कहां है फोकस?

प्रभु राम ने कहा कि पिछले दो सालों में हाइपर कैजुअल गेमर्स नए और बेहतर स्मार्टफोन पर स्विच हुए हैं, जिसकी वजह से गेम टाइम में बढ़ोतरी नजर आ रही है। इनका कहना है कि कोविड से पहले मोबाइल गेमिंग पर यूजर्स एक हफ्ते में 3.5 घंटे बिताते थे, जो कोविड के बाद बढ़कर 4.6 घंटे हो गया है।

इन्होंने आगे बताया कि तीन में से हर पांचवां गेमर 31 मिनट से 120 मिनट हर गेमिंग सेशन में खर्च करता है। इन्होंने बताया कि अगर एवरेज देखा जाए तो हर गेमर अपने गेमिंग सेशन में करीब 79 मिनट खर्च करता है।

रिपोर्ट यह भी कहती है कि कैजुअल और हार्डकोर भारतीय मोबाइल गेमर्स अब फ्रीमियम ऐप्स से पेड गेमिंग ऐप्स की तरफ शिफ्ट हो रहे हैं। कोविड के बाद भारत में पेड गेमिंग में 100 प्रतिशत से ज्यादा बढ़त देखने को मिली है। इस दौरान मोबाइल गेम्स पर खर्च में 44 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली है।

CMR का यह सर्वे Delhi, Chennai, Bangalore, Mumbai, Kolkata और Hyderabad में किया गया, जिसमें 13 से 48 साल के लोगों ने हिस्सा लिया।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: June 1, 2022 2:10 PM IST
  • Updated Date: June 1, 2022 3:56 PM IST



new arrivals in india