comscore खराब बैटरी के कारण एक बार फिर मुसिबत में आया एप्पल | BGR India
News

खराब बैटरी के कारण एक बार फिर मुसिबत में आया एप्पल

एप्पल पर हुए एक मुकदमे के कुछ घंटों बाद दूसरा मुकदमा दायर हो गया है।

  • Updated: February 15, 2022 4:54 PM IST
apple iphone 7

लोकप्रिय फोन निर्माता कंपनी एप्पल जहां अपने ​शानदार डिवाइस और फीचर्स को लेकर चर्चा में रहती है, वहीं इस बार चर्चा में रहने के पीछे का कारण आईफोन में आ रही बैटरी समस्या है। पिछले कुछ दिनों से सामने आ रही खबरों के मुताबिक​ आईफोन की बैटरी में धीमे कार्य कर रही हैं। वहीं एप्पल के खिलाफ प्रथम श्रेणी के कार्रवाई का मुकदमा शुरू होने के कुछ घंटों के बाद, कंपनी ने एक रासायनिक खराब बैटरी के मामले में दूसरा मुकदमा हो गया है। Also Read - WhatsApp की सर्विस इन पुराने आईफोन्स में होने वाली है बंद, तुरंत कर लें अपडेट

Also Read - Flipkart Big Shopping Days Sale Live: पांच दिनों तक इन प्रॉडक्ट्स को जबरदस्त डिस्काउंट पर खरीदने का मौका

एप्पल के जानबूझकर पुराने iPhones को धीमा करने के लिए क्लास एक्शन मुकदमे के हिट होने के कुछ घंटों के बाद, कंपनी पर एक और समस्या आ गई है। फाइलिंग के अनुसार, एप्पल ने “भ्रामक, अनैतिक, और अनैतिक” तरीके से काम किया है। iPhone 5, iPhone 6 और iPhone 7 में iOS 10.2.1 अपडेट ने “उद्देश्यपूर्ण रूप से धीमा” या परफॉर्मेंस स्पीड को कम ​किया है। Also Read - Flipkart Big Shopping Days Sale आज रात 8 बजे से 'Plus' यूजर्स के लिए होगी शुरू, ये हैं बेस्ट डील्स और ऑफर्स

Chicago Sun Times की रिपोर्ट में कहा गया कि यह मुकदमा दो इलिनोइस निवासियों द्वारा दायर किया गया, जिन्होंने सूइट में ओहियो, इंडियाना और उत्तरी केरोलिना के नागरिकों के साथ मिलकर काम किया। फाइल करने वालों का दावा है कि एप्पल भ्रामक व्यवसायिक प्रथाओं के बारे में उपभोक्ता संरक्षण कानूनों का उल्लंघन कर रहा है।

इस मुकदमे का दावा है कि एप्पल ने उपयोगकर्ताओं को नए फोन खरीदने के लिए मजबूर करते हुए पुराने आईफोन को धीमा कर दिया है, और “उपभोक्ताओं को नए और अधिक महंगे iPhones खरीदने के लिए बेमानी रूप से पेश किया है, जबकि एक प्रतिस्थापन बैटरी उपभोक्ताओं को अपने पुराने iPhones का उपयोग जारी रखने की अनुमति दे सकती थी”।

फ्लिप की तरफ, जैसा कि एप्पल इनसाइडर बताते हैं, दूसरा एक्शन मुकदमा दायर करने पर ध्यान नहीं दिया जाता है कि ‘अपडेट ने iPhone 5s, iPhone 6 और iPhone SE के मामले में एक रासायनिक रूप से समाप्त होने वाली बैटरी के साथ अप्रत्याशित शटडाउन रोके हैं। बैटरियों का उपभोग्य सामग्रियों पर विचार किया जाता है, जो एप्पल द्वारा दी गई एक साल की वारंटी की समयसीमा समाप्त होने के बाद बैटरी की स्थिति के लिए उपयोगकर्ताओं जिम्मेदार ठहराता है।’

इन मुकदमों की शुरूआत Reddit पर चर्चा के माध्यम से सामने आई, जो पिछले सप्ताह शुरू हुई थी। इन थ्रेड्स पर उपयोगकर्ता ने दावा किया था कि उनके iPhones ने पोस्ट अपडेट धीमा कर दिया था। अन्य उपयोगकर्ताओं ने दावा किया कि वे उच्च बेंचमार्क परिणाम प्राप्त करने में सक्षम थे, लेकिन केवल एक बैटरी प्रतिस्थापन के बाद कोई सार्वभौमिक सुधार नहीं हुआ है, लेकिन कुछ अतिरिक्त उपयोगकर्ताओं ने पुष्टि की कि प्रतिस्थापना के बाद उनके उपकरणों को तेजी से महसूस किया गया था। नतीजतन, दीर्घकालिक ‘conspiracy theory’ के अंतर्गत एप्पल ने जानबूझकर एक नए उपकरण की खरीद के लिए पुराने iPhones को धीमा कर दिया।

इस हफ्ते की शुरुआत में, एप्पल ने पुष्टि की कि यह पुराने मॉडलों को धीमा कर देती है, लेकिन अपने ग्राहकों को एक नए मॉडल में अपग्रेड करने के लिए बाध्य नहीं करना चाहिए। एप्पल का कहना है कि लिथियम आयन बैटरी की प्रकृति के कारण ऐसा होता है। ली-आयन बैटरी समय के साथ कम मात्रा में चार्ज होती हैं। एप्पल का कहना है कि इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि iPhone पूरी तरह से समाप्त हो जाने पर iPhone अनपेक्षित रूप से बंद नहीं हो जाता है।

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: December 22, 2017 3:48 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 4:54 PM IST



new arrivals in india