comscore
News

एप्पल iPhone X को भी प्रभावित कर सकती है डिसप्ले 'burn-in' की समस्या

गूगल Pixel 2 XL में डिसप्ले 'burn-in' की समस्या को लेकर कई खबरें सामने आ चुकी हैं।

  • Published: November 6, 2017 1:00 PM IST
apple-iphone-x-hands-on-bgr-2

गूगल Pixel 2 और Pixel 2 XL के लॉन्च होने के बाद ही इन स्मार्टफोन में अभी तक कई समस्याएं सामने आ चुकी हैं। यूजर्स द्वारा की गई शिकायतों के अनुसार Pixel 2 XL में डिसप्ले बर्न इन की समस्या काफी परेशान करने वाली है। इस समस्या को इस्तेमाल कर रहे यूजर्स द्वारा बताया गया है, जिन्होंने इस फोन के साथ कुछ ही हफ्ते गुजारे हैं। रिव्यूवर्स ने नोटिस किया कि XL वेरिएंट पर स्क्रीन पर बर्न-इन की समस्या आ रही है। जिसका कारण इसमें उपयोग की गई OLED स्क्रीन को माना जा रहा है। वहीं अब कुछ रिपोर्ट्स में अशंका जताई गई है कि OLED स्क्रीन का उपयोग iPhone X में भी किया गया है जिसकी वजह से इसमें भी ऐसी ही समस्या देखने को मिल सकती है। जिसको लेकर एप्पल द्वारा स्पष्टीकरण भी दिया गया है।

एप्पल iPhone X को कंपनी द्वारा स्पेशल एडिशन के तौर लॉन्च किया गया है जो कि 3 नवंबर को ग्लोबली सेल के लिए भी उपलब्ध हो गया है। इस डिवाइस की खासियत है कि कंपनी ने इसे कई खास फीचर्स जैसे OLED स्क्रीन है। एप्पल चाहता है कि उपभोक्ताओं को कलर और कलर शिफ्टिंग की सुविधा मिल सके, OLED डिसप्ले की विशेषता के रूप में ऑफ-एंगल पर iPhone X का इस्तेमाल किया जाए। प्रारंभिक समीक्षाओं ने इस रूप में भी उल्लेख किया, एप्पल का कहना है कि iPhone X के पास सुपर रेटिना डिसप्ले के साथ इंडस्ट्री में सबसे अच्छा OLED डिसप्ले है, लेकिन कुछ परिस्थितियों में burn-in हो सकता है। इसे भी देखें: गूगल Pixel 2 XL में सामने आई एक और समस्या

9to5mac की रिपोर्ट के अनुसार एप्पल द्वारा iPhone X से पहले केवल एप्पल वॉच पर ही OLED उपयोग किया है, इसके बाद MacBook Pro पर टच बार का उपयोग किया गया है। लेकिन iPhone X में सबसे अलग 5.8-इंच का सुपर रेटिना डिसप्ले का इस्तेमाल किया गया है। एप्पल ने ऑटो-ब्राइटनेस, कम ऑटो-लॉक अवधियों का उपयोग करने की सलाह दी और OLED डिसप्ले की लाइफ को लम्बा रखने के लिए नवीनतम सॉफ्टवेयर अपडेट चलाया। अंत में, एप्पल iPhone X पर सुपर रेटिना डिसप्ले के साथ विस्तारित अवधि के लिए फुल ब्राइटनेस पर स्थिर इमेज को प्रदर्शित करने की सलाह देती है। इसे भी देखें: OnePlus 5T स्मार्टफोन लॉन्च से पहले GFXBench साइट पर हुआ लिस्ट, जानें स्पेसिफिकेशन और फीचर्स

एप्पल का कहना है कि ‘यदि आप एक OLED डिस्प्ले ऑफ-एंगल को देखते हैं, तो आप रंग और रंग में थोड़ा बदलाव देख सकते हैं। यह ओएलईडी की एक विशेषता है और सामान्य व्यवहार है। विस्तारित दीर्घकालिक उपयोग के साथ, OLED प्रदर्शित भी थोड़ा दृश्य परिवर्तन दिखा सकते हैं। यह भी व्यवहार की अपेक्षा है और इसमें “image persistence” या “burn-in” शामिल हो सकता है, जहां स्क्रीन पर एक नई छवि दिखाई देने के बाद भी प्रदर्शन छवि की एक faint अवशेष को दिखाता है। यह अधिक मामलों में हो सकता है जैसे लंबे समय तक के लिए एक ही उच्च विपरीत छवि लगातार प्रदर्शित होती है। हमने सुपर रेटिना डिसप्ले को OLED “burn-in” के प्रभाव को कम करने में उद्योग में सबसे अच्छा किया है।’ इसे भी देखें: मुबंई एयरपोर्ट पर एक व्यक्ति के पास मिले iPhone X के 11 ​यूनिट

You Might be Interested

Apple iPhone X

95390

iOS 11
A11 Bionic 64-bit chipset with M11 motion coprocessor
dual 12MP camera f/1.8 and f/2.8 apertures with dual OIS
Google Pixel 2

42000

Android 8.0.1, Oreo
Qualcomm Snapdragon 835 Octa-Core 2.35GHz + 1.9GHz, 64-Bit Processor
12.2 MP with f/1.8 aperture
  • Published Date: November 6, 2017 1:00 PM IST