comscore
News

अब एंड्रॉइड गूगल क्रोम में स्लो इंटरनेट कनेक्शन में भी कर पाएंगे फास्ट ब्राउजिंग

पिछले साल अक्टूबर में भी गूगल ने क्रोम में 'NoScript' फ्लैग (एक्सपेरिमेंटल फीचर) पेश किया था।

google-chrome-logo

दुनिया के सबसे पॉप्युलर वेब ब्राउजर गूगल क्रोम का यूज PC से लेकर स्मार्टफन तक कई डिवाइस पर किया जाता है। दुनियाभर में एंड्रॉइड के बहुत ज्यादा यूजर्स होने के कारण क्रोम ज्यादातर मोबाइल डिवाइस पर एक डिफॉल्ट ब्राउजर है। यही कारण है कि यह काफी लोगों की पसंद बन चुका है।

भले ही एंड्रॉइड पर गूगल क्रोम बड़ी से बड़ी वेबसाइटों को भी आसानी से ओपन कर सकता है, लेकिन हर किसी के पास अल्ट्रा-फास्ट 4G सेलुलर कनेक्टिविटी नहीं होती है। ब्राउजर को अब एक नया फीचर मिल रहा है जो सुनिश्चित करता है कि 2G कनेक्शन वाले यूजर भी तेजी से वेब-ब्राउजिंग कर सकें।

पिछले साल अक्टूबर में गूगल ने क्रोम में ‘NoScript’ फ्लैग (एक्सपेरिमेंटल फीचर) पेश किया था। जैसा की नाम से पता चलता है यह फ्लैग कुछ वेबपेजों पर जावास्क्रिप्ट को अॉफ कर अपने लोडिंग टाइम और रिस्पॉन्सिवनेस को तेज कर देता है।

XDA-Developers की एक रिपोर्ट के अनुसार एंड्रॉइड के लिए गूगल क्रोम में अब डिफॉल्ट रूप से ‘NoScript’ फ्लैग चालू हो जाएगा। इसका मतलब है कि ब्राउजर स्लो नेटवर्क कनेक्शन पर अपने आप ही जावास्क्रिप्ट प्लग-इन को अॉफ कर देगा। यह फीचर अंडर-डिवेलपमेंट देशों के यूजर्स के बहुत काम आएगा, जहां फास्ट सेलुलर कनेक्शन अभी भी मुश्किल से आता है।

इसके अलावा गूगल क्रोम एक नई पेज लोडिंग टेक्निक का टेस्ट कर रहा है जो यूजर को वेब तेजी से ब्राउज करने में मदद करेगा। इसे ‘Lazy Loading’ फीचर कहा जा रहा है, जो हाल ही में गूगल क्रोम के डिवेलपमेंटल ‘कैनरी’ चैनल पर देखा गया था।

‘Lazy Loading’ एक ऐसी टेक्निक है जो वेब ब्राउजर के केवल उन एलिमेंट को लोड करने की अनुमति देती है जो उस समय डिस्प्ले में दिखाई दे रहे हों। बाकी एलिमेंट सिर्फ तब लोड होते हैं जब यूजर पेज को ऊपर या नीचे स्क्रॉल करता है। इसकी वजह से फास्ट ब्राउजिंग एक्सपीरिएंस होता है, क्योंकि ब्राउजर को पूरे वेबपेज को एक बार में लोड नहीं करना पड़ता है।

  • Published Date: August 24, 2018 4:59 PM IST