comscore
News

स्क्रैच टेस्ट से लेकर बेंड टेस्ट तक सब कुछ झेल गया गूगल पिक्सल 3 XL, देखें वीडियो

यूट्यूब में देखी गई इस वीडियो में गूगल पिक्सल 3 XL के ऊपर स्क्रैच, बर्न(जलाना) और बेंड(मोड़ना) टेस्ट किए गए हैं।

Google Pixel 3 XL (14)

टियरडाउन के बाद, अब गूगल के लेटेस्ट फ्लैगशिप Pixel 3 XL स्मार्टफोन को एक पॉप्युलर यूट्यूबर के कुछ ड्यूरेबिलिटी (मजबूती) टेस्ट से गुजरना पड़ा है। JerryRigEverthingstress नाम के एक यूट्यूब चैनल के अॉनर Zack Nelson के द्वारा पोस्ट की हुई एक वीडियो में देखा गया है कि स्मार्टफोन कितना मजबूत है।

यूट्यूब में देखी गई इस वीडियो में गूगल पिक्सल 3 XL के ऊपर स्क्रैच, बर्न(जलाना) और बेंड(मोड़ना) टेस्ट किए गए हैं। स्क्रैच टेस्ट की बात करें तो स्मार्टफोन के फ्रंट में कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 प्रोटेक्शन वाली डिस्प्ले ने चाकू जैसी धारदार चीज को लेवल 5 तक आराम से संभाल लिया। हालांकि लेवल 6 में आते-आते स्मार्टफोन में थोड़े स्क्रैच देखने को मिले।

स्क्रीन के बाद अगर स्पीकर को कवर करने वाली मेटल ग्रिल की बात करें तो स्मार्टफोन के इस पार्ट ने भी चाकू की धार को आराम से झेल लिया था। हालांकि पिक्सल 3 XL के बैक में स्क्रैच करने पर फ्रंट के मुकाबले ज्यादा स्क्रैच देखने को मिले।

इस स्मार्टफोन के बैक में आसानी से स्क्रैच आने की शिकायत कई यूजर्स ने पहले भी की है। गूगल ने पिक्सल 3 XL के बैक में आधे हिस्से में फिंगरप्रिंट सेंसर को प्रोटेक्ट करने के लिए रबर मैटिरियल दिया है, जिससे स्मार्टफोन में ड्यूल-टोन लुक आता है। यह मटेरियल सिक्के से या चाबी जैसी वस्तू से भी आराम से स्क्रैच पकड़ लेता है। यूट्यूबर का कहना है कि यह आजकल आने वाली किसी भी अन्य डिवाइस के ग्लॉसी मटेरियल से ज्यादा स्क्रैच पकड़ता है।

इसके बाद पिक्सल 3 XL पर बर्न टेस्ट किया गया है। स्मार्टफोन की स्क्रीन ने आग की फ्लेम को 30 सेकंड तक आराम से झेल लिया था। फ्लेम की वजह से डिस्प्ले में पड़े डेड पिक्सल कुछ ही देर में आराम से खुद से नॉर्मल स्टेज में आ गए। आखिर में किए गए बेंड टेस्ट को भी स्मार्टफोन ने पास कर लिया था। इन सब से यह बात साफ हो गई है कि पिक्सल 3 XL अपने पिछले वर्जन से काफी मजबूत है।

  • Published Date: October 23, 2018 8:07 AM IST