comscore गूगल 'पैनिक डिटेक्शन' फीचर डिवाइस को नहीं होगा कोई नुकसान | BGR India
News

गूगल 'पैनिक डिटेक्शन' फीचर डिवाइस को नहीं होगा कोई नुकसान

नया फीचर एंड्राइड को दुर्भावनापूर्ण एप को ओवरराइड करने की अनुमति देगा और उन्हें बंद कर देगा।

android-nougat

मैलवेयर और साइबर हमलों के बढ़ते खतरों के बाद गूगल ने इसके लिए एक नया फीचर लेकर आई है। यह फीचर गतिविधियों को विफल करने में सक्षम करेगा। कंपनी कथित तौर पर एंड्राइड 7.1 नौगट ओएस में एक नई सुविधा का निर्माण कर रही है, जो उपयोगकर्ताओं को दुर्भावनापूर्ण एप्स को उनके डिवाइसों को नुकसान पहुंचाने से रोकेगा। लेकिन, सबसे बड़ी बात यह है कि यह ‘पैनिक डिटेक्शन’ सुविधा अब तक उपलब्ध नहीं है।

XDA-Developers के अनुसार गूगल ने एंड्राइड 7.1 नौगट पर पैनिक फीचर को पेश किया है। जानकारी के अनुसार यूजर्स इस फीचर की मदद से जल्द ही उन एप्स से बाहर आ जाएंगे जो उनके डिवाइस को नुकसान पहुंचा सकते हैं। कई बार यूजर्स गलती से किसी लिंक पर क्लिक कर ऐस एप्स डाउनलोड कर लेते हैं जो उनके डिवाइस को नुकसान पहुंचा सकता है।

इसे भी देखें: Lava A93 स्मार्टफोन 5.5-इंच एचडी डिसप्ले, 3,000एमएएच बैटरी के साथ हुआ लॉन्च, कीमत: 7,999 रुपए

पैनिक बटन सुविधा मनुष्यों के समान ही प्रतिक्रिया देती है जैसे ही कोई यह महसूस करता है कि कुछ गलत है या असामान्य गतिविधि है तो बटन को सक्रिय करने से आपत्तिजनक कार्य बंद हो जाएगा।

इसे भी देखें: उबर और अमेजन में जल्द शुरू होगी UPI सुविधा: NPCI

सुविधा को सक्रिय करने के लिए किसी भी एप या वेबसाइट में किसी उपयोगकर्ता को दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों को खोलने के लिए आवश्यक सभी चीजों को वापस चार बार बटन पर टैप करना होगा। इससे सभी चल रहे एप्लिकेशन को बंद करने के लिए सुविधा को ट्रिगर किया जाएगा, जिससे फोन पर होने वाली गतिविधि रोक दी जा सके। ऐसे उदाहरणों में जब गलत एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं को एप से बाहर निकलने या इसे बंद करने से रोकते हैं, तो एंड्राइड होम स्क्रीन को वापस लाने के लिए एप को ओवरराइड करेगा। एप से बाहर होने के बाद, उपयोगकर्ता सैद्धांतिक रूप से डिवाइस से दुर्भावनापूर्ण एप को अनइंस्टॉल कर सकता है।

इसे भी देखें: 13-मेगापिक्सल कैमरा के साथ लॉन्च हुआ Honor 6A स्मार्टफोन, जानें कीमत, स्पेसिफिकेशन और फीचर्स

Read In English: Google’s ‘Panic Detection’ feature will help you stop rogue apps from taking over your device, but there’s a catch

  • Published Date: July 11, 2017 9:45 PM IST
  • Updated Date: July 12, 2017 10:02 AM IST