comscore अधिशेष में वृद्धि देश के वैश्विक वाहन उत्पादन केंद्र बनने में रुकावट: होंडा | BGR India
News

अधिशेष में वृद्धि देश के वैश्विक वाहन उत्पादन केंद्र बनने में रुकावट: होंडा

जीएसटी की वजह से वाहनों के उत्पादन में आ सकती है बाधा।

  • Updated: February 15, 2022 4:16 PM IST
GST


होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड ने कहा है कि भारत में बड़ी कारों तथा स्पोटर्स यूटिलिटी वाहनों (एसयूवी) पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत उपकर की दर बढा कर 25 फीसदी किये जाने से देश को वाहन उत्पादन का वैश्विक केंद्र बनने की राह में बाधा पैदा होगी। Also Read - Honda का जबरदस्त ऑफर! अभी खरीदें Honda City और Amaze, अगले साल से भरें EMI

Also Read - Honda लाने वाली है Electric Car, Mahindra और Tata की बढ़ेगी मुश्किल

जापान की होंडा मोटर की अनुषंगी इस कंपनी ने कहा कि सरकार के इस निर्णय से भारत में कारों के उन्नत वैश्विक मॉडलों के कारोबार की वृद्धि प्रभावित होगी। उसने कार उद्योग पर कर भार बढ़ाने वाले इस निर्णय को निराशाजनक बताते हुए कहा कि कारों के साथ असंगत कर व्यवहार से भारत वैश्वक बाजार में अलग थलग पड़ सकता है। Also Read - कन्फर्म! Honda ला रही नया 125cc स्कूटर, TVS Ntorq से होगा मुकाबला

इसे भी देखें: गूगल Pixel XL 2 में ‘squeezable body’ हो सकता है खास फीचर

कंपनी के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी योइचिरो उएनो ने कहा कि एक जुलाई से लागू जीएसटी के जरिये किये गये कर सुधार का कंपनी ने स्वागत किया था पर , ‘‘.. बड़ी कारों तथा एसयूवी पर उपकर को 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत किया जाना बेहद निराशाजनक है।’’ यह उपकर राज्यों को जीएसटी के चलते किसी प्रकार के राजस्व नुकसान की भरपायी के लिए है।

उन्होंने आगे कहा कि भारतीय वाहन उद्योग उत्सर्जन प्रावधानों तथा सुरक्षा मानकों के लिहाज से वैश्वीकरण की दिशा में बढ़ रहा है, लेकिन केवल छोटी कारों पर ही ज्यादा ध्यान देना तथा उन्हें कर छूट देना भारत को वैश्विक बाजार में अलग थलग कर देगा तथा ‘ यह देश के वाहन उद्योग के विकास को प्रभावित करेगा।’ उन्होंने कहा कि इस तरह की कर नीति से ‘‘ देश से पूरी तरह से तैयार वाहनों (सीबीयू) तथा वाहनों के कल-पूर्जों के निर्यात में मुश्किलें बढ़ेंगी और इसके वैश्विक कार उत्पादन केंद्र बनने की राह में रुकावटें आएंगी।’’ उन्होंने कहा कि लंबाई चार मीटर से अधिक होने के कारण भर से कई ऐसे मॉडल यहां लग्जरी मान लिये जाते हैं जो अन्य देशों में एंट्री सेगमेंट में हैं। उन्होंने हाइब्रिड वाहनों पर कर की ऊंची दर की सरकार से समीक्षा की अपील करते हुए कहा कि ये कारें तो उन्नत और पर्यावरण हितैषी हैं।

इसे भी देखें: Lenovo K8 Note से लेकर Honor 6X तक ये 5 एंड्राइड स्मार्टफोन की कीमत है 20 हजार रुपए से भी कम

उल्लेखनीय है कि अभी बड़ी कारों तथा एसयूवी पर जीएसटी के तहत सबसे ऊंची दर 28 प्रतिशत के हिसाब से कर लगता है। इसके अलावा राजस्व क्षतिपूर्ति के लिए धन जुटाने के लिए इन कारों पर 15 प्रतिशत उपकर लगाया गया था । जीएसटी परिषद ने इस महीने के शुरु में क्षतिपूर्ति उपकर की दर बढ़ा कर कर 25 प्रतिशत करने का प्रस्ताव किया।

इसे भी देखें: अमेजन इंडिया सेल में सबसे अधिक प्राइम मेंबर्स ने की खरीददारी: रिपोर्ट

  • Published Date: August 14, 2017 9:00 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 4:16 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.