comscore ई-टोल भुगतान के लिए फास्टैग उपलब्ध कराने को एनएचएआई ने मोबाइल एप पेश किए | BGR India
News

ई-टोल भुगतान के लिए फास्टैग उपलब्ध कराने को एनएचएआई ने मोबाइल एप पेश किए

एनएचएआई ने दो मोबाइल एप....माईफास्टैग और फास्टैग पार्टनर.... पेश किए हैं।

  • Published: August 19, 2017 11:00 AM IST
apple-iphone-4s

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) आज दो मोबाइल एप….माईफास्टैग और फास्टैग पार्टनर…. पेश किए हैं। इसके पीछे मकसद इलेक्ट्रानिक तरीके से टोल के भुगतान के लिए टैग की उपलब्धता सुनिश्चित करना है।

सरकार एनएचएआई के सभी 371 टोल प्लाजा के रास्तों को इस साल एक अक्तूबर तक फास्टैग अनुकूल बनाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। फास्टैग एक लोड किया जा सकने वाला टैग है जो कि वाहन के शीशे में लगा होगा, जिसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान प्रौद्योगिकी (आरएफआईडी) होगी। यह प्रीपेड खाते से जुड़ा होगा, जिससे टोल शुल्क कटेगा। इसमें वाहनों को टोल बूथ पर रुकने की जरूरत नहीं होगी।

इसे भी देखें: COMIO ने भारत में लॉन्च किए तीन नए स्मार्टफोन, शुरुआती कीमत 5,999 रुपए

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने बयान में कहा कि एनएचएआई ने दो मोबाइल एप दो मोबाइल एप….माईफास्टैग और फास्टैग पार्टनर…. पेश किए हैं। इसके पीछे मकसद इलेक्ट्रानिक तरीके से टोल संग्रहण को टैग की उपलब्धता सुनिश्चित करना है।

इसे भी देखें: BlackBerry Keyone: टियरडाउन में एडहेसिव स्क्रीन का किया गया है इस्तेमाल

एनएचएआई के चेयरमैन दीपक कुमार ने कहा कि फास्टैग की खरीद और उसे रिचार्ज कराने की जटिल प्रक्रिया प्रमुख चुनौती है। उन्होंने कहा, ‘‘आज जो मोबाइल एप पेश किए गए हैं उनसे यह प्रक्रिया सुगम हो सकेगी। मोबाइल का एक बटन दबाने पर फास्टैग को खरीदना या उसे रिचार्ज करना संभव होगा।’’

इसे भी देखें: फेसबुक ने की क्लिकबैट स्टोरी से लड़ने के लिए नए प्रयास की घोषणा

  • Published Date: August 19, 2017 11:00 AM IST