comscore अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बावजूद उपग्रह प्रक्षेपण जारी रखेगा उत्तर कोरिया | BGR India
News

अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बावजूद उपग्रह प्रक्षेपण जारी रखेगा उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया ने सोमवार को कहा कि वह अपनी अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बावजूद उपग्रहों का प्रक्षेपण करता रहेगा।

  • Published: October 30, 2017 10:00 PM IST
isro-7th-navigavion-satellite-launch

उत्तर कोरिया ने सोमवार को कहा कि वह अपनी अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बावजूद उपग्रहों का प्रक्षेपण करता रहेगा। उत्तर कोरिया ने कहा कि एक संप्रभु राष्ट्र के तौर पर अंतरिक्ष कार्यक्रम को विकसित करना उसका अधिकार है। सरकारी समाचार पत्र रोडोंग सिनमन की रपट के मुताबिक, उत्तर कोरियाई प्रशासन ने कहा, “यह एक वैश्विक चलन है कि एक देश अंतरिक्ष कार्यक्रम के जरिए अर्थव्यवस्था का विकास करने की संभावना देखता है।”

समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने कहा कि पांच-वर्षीय अंतरिक्ष विकास कार्यक्रम के अंतर्गत और भी उपग्रह प्रक्षेपित किए जाएंगे।
उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर अपने (उत्तर कोरिया) और अन्य विकासशील देशों के अंतरिक्ष कार्यक्रम में बाधा डालने का आरोप लगाया है। इसे भी देखें: Nokia 9 Edge का कॉन्सेप्ट वीडियो आया सामने

समाचार पत्र में कहा गया है, “कुछ देशों ने संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंध प्रस्तावों में हमारे खिलाफ हेर-फेर किया है और संप्रभु देशों के अंतिरक्ष विकास कार्यक्रम में बाधा डाला है। यह कृत्य बर्दाश्त के बाहर है।” इसे भी देखें: एयरटेल ने एक और सस्ता स्मार्टफोन किया लॉन्च, इफेक्टिव कीमत 1,349 रुपए

उत्तर कोरिया ने अब तक दो उपग्रहों को प्रक्षेपण किया है। पहला क्वांगमाइओंगसोंग-1 (ब्राइट स्टार-1) का प्रक्षेपण अगस्त 1998 में और दूसरा क्वांगमाइओंगसोंग-4 का प्रक्षेपण फरवरी 2016 में किया गया था। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का मानना है कि अपने अंतिरक्ष कार्यक्रम के जरिए उत्तर कोरिया अवैध तरीके से लंबी दूरी की मिसाइलों का परीक्षण कर सकता है। इसे भी देखें: जियोनी M7 Power स्मार्टफोन 5,000एमएएच बैटरी के साथ 2 नवंबर ​को होगा भारत में लॉन्च: रिपोर्ट

  • Published Date: October 30, 2017 10:00 PM IST