comscore भारत में डिजिटल ऐप्स ले रहे हैं कैश, कार्डस की जगह: एफआईएस रिपोर्ट | BGR India
News

भारत में डिजिटल ऐप्स ले रहे हैं कैश, कार्डस की जगह: एफआईएस रिपोर्ट

डिजिटलाइजेशन तेजी से विकसित हो रहा है।

  • Updated: February 15, 2022 5:08 PM IST
mobile-apps

वैश्विक बैंकिंग एवं भुगतान तकनीक प्रदाता-एफआइएस द्वारा संचालित नवीनतम सर्वे में यह पता चला है कि भारतीय बैंकिंग ग्राहकों ने डिजिटल बैंकिंग को पूरे दिल से अपनाया है। वे भुगतान करने के लिए मोबाइल वालेट्स एवं वर्चुअल काडरें को सबसे अधिक प्राथमिकता दे रहे हैं। डिजिटल ऐक्सस चूंकि भारत में परिपक्व स्तर पर पहुंच गया है, ऐसे में बैंक पिछले साल में अपने डिजिटल सामथ्र्य का विस्तार कर रहे हैं। Also Read - ये एप्स आपकी होली को बना देंगे और रंगीन

Also Read - टॉप 5 फूड ​एप्लिकेशन जिनसे कर सकते हैं घर बैठे खाना आॅर्डर

एफआइएस के चौथे परफॉर्मेंस अगेन्स्ट कस्टमर एक्सपेक्टेशंस (पीएसीई) अध्ययन में भारत में 1,000 से अधिक बैंकिंग ग्राहकों का सर्वे किया गया है। इस सर्वे में पाया गया कि 86 प्रतिशत भारतीय बैंकिंग ग्राहक अपने बैंक खाता जांचने और वित्तीय लेनदेन करने के लिए फाइनेंशियल मोबाइल एप्स का उपयोग करते हैं। Also Read - मोबाइल वॉलेट से लेनदेन 2022 तक 32,000 अरब रुपये तक पहुंचेगा

डिजिटल बैंकिंग को अपनाने में हो रही वृद्धि यह दर्शाती है कि बैंकों को ग्राहकों की जरूरतों को समझने की आवश्यकता है ताकि वे उन क्षेत्रों को प्राथमिकता दे सकें जहां डिजिटल सबसे अधिक मायने रखता है।

एफआइएस पेस की रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि भारत के बैंक अपने ग्राहकों की अपेक्षाओं को सफलतापूर्वक पूरा कर रहे हैं। वे उन्हें विभिन्न डिजिटल चैनलों एवं सुविधाजनक शाखा स्थानों की पेशकश करते हैं।

82 प्रतिशत भारतीय ग्राहक अपने प्राथमिक बैंक से संतुष्ट हैं और निजी क्षेत्र के बैंकों के ग्राहक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के ग्राहकों की तुलना में ज्यादा संतुष्ट नजर आये। रिपोर्ट में यह भी पता चला कि बैंक रिवार्ड प्रोग्राम की पेशकश कर उनके संतुष्टि के स्तर को और अधिक बढ़ा सकते हैं।

भारत में एफआईएस के प्रबंध निदेशक रामास्वामी वेंकटचेलम ने कहा, “इस साल का पेस अध्ययन स्पष्ट तौर पर दर्शाता है कि डिजिटल एक्सेस और मोबाइल फाइनेंशियल एप्लीकेशंस भारतीय ग्राहकों के लिए सबसे अधिक मायने रखते हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था लेस कैश इकोनॉमी की तरफ बढ़ रही है, ऐसे में बैंक अपने ग्राहकों को डिजिटल सामथ्र्य मुहैया करा रहे हैं, ताकि वित्तीय गतिविधियों की व्यापक श्रृंखला को बढ़ावा दिया जा सके।

डिजिटलाइजेशन तेजी से विकसित हो रहा है, बैंकों को रणनीतिक ढंग से व्यक्तिगत ग्राहकों की जरूरतों एवं इच्छाओं को प्राथमिकता देने की जरूरत होगी ताकि ग्राहकों को पूर्ण संतुष्टि मिले। पेस अध्ययन में एक स्पष्ट तस्वीर दी गई है कि भारत के बैंकों को कहां पर फोकस करना चाहिये और हम किस तरह बैंकिंग ग्राहकों की मांगों को पूरा करने के लिए सेवाओं/उत्पादों को उपलब्ध करा सकते हैं।”

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on  Facebook Messenger for latest updates.

  • Published Date: May 30, 2018 4:07 PM IST
  • Updated Date: February 15, 2022 5:08 PM IST



new arrivals in india