comscore PUBG Mobile Ban: Nepal के बाद Iraq में भी बंद होगा PUBG Mobile Game! | BGR India
News

PUBG Mobile Ban: Nepal के बाद Iraq में भी बंद होगा PUBG Mobile Game!

इराक की पार्लेमेंट (संसद) ने इस ऑनलाइन मल्टीप्लेयर वीडियो गेम्स पर बैन लगाने का प्रस्ताव दिया है।

PUBG-Mobile-banned

भारत समेत दुनियाभर में PUBG Mobile गेम काफी लोकप्रिय है। हालांकि पिछले कुछ समय से इस खेल के लिए काफी नकरात्मक बातें सामने आ रही है। इसी के चलते हाल में नेपाल ने इस गेम को अपने देश में बैन कर दिया था। अब खबरें हैं कि PUBG Mobile को इराक में भी बैन किया जा सकता है। इंटरनेट पर उपलब्ध एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक इराक की पार्लेमेंट (संसद) ने इस ऑनलाइन मल्टीप्लेयर वीडियो गेम्स पर बैन लगाने का प्रस्ताव दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक इराक की सरकार को डर है कि यह ऑनलाइन मल्टीप्लेयर गेम युवाओं और बच्चों के मस्तिष्क पर हिंसक प्रभाव डाल रहा है, जो देश और समाज के लिए सही है। इसलिए वहां की सरकार ने इस गेम को बैन करने का प्रस्ताव दिया है।
इराक की कल्चरल पार्लेमेंट कमिटी ने शनिवार को एक ड्राफ्ट पेश किया है जिसमें  PUBG गेम पर बैन लगाने की मांग की गई है। PUBG खेल रहे बच्चे और युवा के मस्तिष्क पर इसका हिंसक प्रभाव पड़ रहा है और कमिटी ने अपने ड्राफ्ट में इसी चिंता को उजागर किया है। ड्राफ्ट में कहा गया है कि PUBG का गलत प्रभाव तेजी से समाज में फैल रहा है। पिछले कुछ समय से इस गेम के चलते इराकी मीडिया ने सुसाइड और तलाक की कई घटनाओं की सूचना दी है।

इससे पहले Playerunknown’s Battlegrounds गेम को नेपाल में बैन कर दिया गया था। नेपाल के एक सीनियर ऑफिशियल्स के मुताबिक यह गेम बच्चों में वॉयलेंस को बढ़ा रहा था और इससे बच्चों पर गलत प्रभाव पड़ रहा था, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है। नेपाल टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी (NTA) के डेप्युटी डायरेक्टर Sandip Adhikari ने कहा कि हमने PUBG को नेपाल में बैन करने का आदेश इसलिए दिया है क्योंकि इसने बच्चों को एडिक्टिव बना दिया है।

Nepal Metropolitan Crime Division ने काठमांडु डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में बुधवार को एक याचिका दायर की थी जिसके बाद यह फैसला आया है। इसके एक दिन बाद ही नेपाल टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी ने सभी ISPs और मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर्स को इस गेम को बंद करने का आदेश दे दिया। Metropolitan Crime Division के चीफ Dhiraj Pratap ने कहा कि हमें बच्चों के माता पिता और स्कूल असोसिएंशंस से इस गेम से संबंधित कई कंप्लेन मिली थी, जिसके बाद यह फैसला उठाया गया है।

  • Published Date: April 16, 2019 9:27 AM IST